बिना टीईटी पास शिक्षामित्रों को झटका, उत्तराखंड हाईकोर्ट ने टीचर मानने से किया इनकार

नैनीताल स्थित उत्तराखंड हाईकोर्ट ने शिक्षामित्रों को अध्यापक मानने से इंकार कर दिया है. टीईटी पास बेरोजगार युवकों की ओर से दाखिल याचिका पर सुनवाई के बाद हाईकोर्ट की एकलपीठ ने अहम फैसला सुनाया है.

कोर्ट ने कहा है कि जनवरी 2015 में सहायक शिक्षक पद पर नियुक्त किए गए 3652 शिक्षामित्रों में से जो टीईटी पास नहीं हैं. उनका समायोजन शिक्षक पद पर नियमविरुद्ध किया गया है.

याचिकाकर्ताओं ने मांग की थी कि जो युवक बीएड टीईटी पास हैं, वे बेरोजगार हैं. जबकि जिन शिक्षामित्रों को सहायक अध्यापक पद पर नियुक्ति दी गई है. वे आरटीई के मानकों के अनुसार योग्यता पूरी नहीं करते हैं. कोर्ट ने यूपी से जुड़े मामले का भी फैसले में जिक्र किया है.

हालांकि उत्तराखंड सरकार ने केन्द्र सरकार और एनसीटीई से पत्र लिखकर चयनित शिक्षामित्रों को टीईटी से छूट की मांग की थी. इन चिट्ठियों में भी छूट की स्थिति साफ नहीं है. हाईकोर्ट के फैसले के बाद बिना टीईटी शिक्षामित्रों को बड़ा झटका लगा है.