कश्मीर के सभी भागों से रविवार को कर्फ्यू हटा, दुकानों पर लगी ग्राहकों की भीड़

कश्मीर में रविवार को बाजार खुले रहे और दुकानों पर ग्राहकों की भारी भीड़ देखी गई. कश्मीर के सभी हिस्सों से कर्फ्यू हटा लिया गया है.

अलगाववादियों के आह्वान के चलते करीब 79 दिनों तक बंद रही दुकानें एवं व्यापारिक प्रतिष्ठान रविवार को दो बजे के बाद खुलीं. बाजार खुलने के बाद दुकानों पर ग्राहकों की भारी भीड़ देखी गई. श्रीनगर में वाणिज्यिक केंद्र लाल चौक और उसके आसपास के क्षेत्रों में यातायात जाम रहा. अन्य जिलों में सड़कों पर बड़ी संख्या में गाड़िया सरपट दौड़ती नजर आयीं.

अलगाववादी संगठनों ने बंद में सोमवार सुबह छह बजे तक के लिए छूट की घोषणा की है. एक पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि घाटी में स्थिति सामान्य है और कहीं से किसी अप्रिय घटना की खबर नहीं है.

उन्होंने कहा, ‘पूरी कश्मीर घाटी आज कर्फ्यू मुक्त है लेकिन ऐहतियात के तौर पर कई हिस्सों में पाबंदिया हैं.’ उन्होंने बताया कि वैसे अनंतनाग एवं सोपोर में बदमाशों ने अशांति पैदा करने की कोशिश की.

प्रवक्ता के अनुसार सोपोर चौक और अनंतनाग में के.पी. रोड पर बदमाशों ने अशांति फैलाने की अपनी कोशिश के तहत दुकानदारों पर पथराव किया, उस वक्त दुकानदार अपनी दुकानें खोल रहे थे. तुरंत पुलिस और सुरक्षाबल मौके पर पहुंचे और बदमाशों को खदेड़कर स्थिति को सामान्य किया.

उन्होंने बताया कि पिछले 24 घंटे के दौरान पुलिस ने 39 और बदमाशों को गिरफ्तार किया है, जो दुकानदारों को डराने धमकाने, पथराव कर तथा सड़कों पर बाधा खड़ी कर यातायात को बाधित करना चाहते थे. उन्होंने बताया कि शनिवार को स्थिति में सुधार के साथ कर्फ्यू हटा लिया गया था.

वर्तमान अशांति में दो पुलिसकर्मियों सहित 82 लोगों की जान चली गई तथा हजारों अन्य घायल हुए. आठ जुलाई को सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में हिज्बुल मुजाहिदीन के कमांडर आतंकवादी बुरहान वानी के मारे जाने के बाद अशांति शुरू हुई थी.