मुंबई : नेवी बेस के पास दिखे संदिग्ध हथियारबंद | दो के स्कैच जारी, पुख्ता इंतजाम

मुंबई के पास ही रायगढ़ जिले के उरन में कुछ संदिग्ध हथियारबंद लोगों के दिखने के बाद नौसेना व महाराष्ट्र पुलिस सहित तटीय सुरक्षा से संबंधित सभी एजेंसियां अत्यधिक चौकस हो गई हैं. मुंबई पुलिस ने दो संदिग्ध के स्केच जारी कर दिए हैं. इस मामले में महाराष्ट्र के डीजीपी अपनी जांच रिपोर्ट दे सकते हैं.

मुंबई से करीब 50 किलोमीटर दूर उरन में गुरुवार सुबह उरण एजुकेशन सोसाइटी स्कूल के कुछ बच्चों ने पठानसूट जैसे काले कपड़ों में करीब 5-6 हथियारबंद संदिग्ध लोगों को देखा. संदिग्धों ने अपनी पीठ पर बैग भी टांग रखे थे.

प्रत्यक्षदर्शी दो बच्चों के अनुसार संदिग्ध आपस में किसी अनजानी भाषा में बात कर रहे थे. बच्चों ने उनके मुंह से ‘ओएनजीसी’ एवं ‘स्कूल’ जैसे शब्द सुने. शक होने पर बच्चों ने उनके बारे में अपने प्रिंसिपल को सूचना दी. प्रिंसिपल ने स्थानीय पुलिस को सूचित किया. पुलिस से नौसेना को पता चलते ही नौसेना ने उच्चतम चौकसी का संदेश जारी कर दिया. तटीय सुरक्षा से जुड़ी सभी एजेंसियां सक्रिय हो गईं.

नौसेना के प्रवक्ता राहुल सिन्हा ने बताया कि नौसेना ने हवाई निगरानी के लिए हेलीकॉप्टरों की गश्त शुरू कर दी है. साथ ही समुद्र क्षेत्र में जहाजों और तेज गति की नौकाओं की गश्त बढ़ा दी गई है. नौसेना के पीआरओ के अनुसार मछुआरों से कहा गया है कि कोई भी संदिग्ध व्यक्ति या नौका नजर आने पर वह संबंधित एजेंसियों को सूचित करें. सर्च ऑपरेशन के लिए नौसेना ने अपने हेलीकॉप्टरों की गश्त बढ़ा दी है.

बता दें उरन में नौसेना का एक केंद्र आइएनएस अभिमन्यु होने के अलावा केंद्रीय विद्यालय, कुछ और स्कूल, सत्र न्यायालय इत्यादि हैं. संदिग्धों की सूचना मिलने के बाद उरण सत्र न्यायालय खाली करा लिया गया. उरण में नौसेना की इलीट कमांडो फोर्स मार्कोस का भी केंद्र है. उरण से कुछ ही दूरी पर जवाहरलाल नेहरू पोर्ट, राजभवन, भाभा परमाणु अनुसंधान केंद्र जैसे संवेदनशील संस्थान भी हैं. इन सभी केंद्रों सहित मुंबई महानगर में भी सुरक्षा बंदोबस्त कड़े कर दिए गए हैं.

महाराष्ट्र के पुलिस महानिदेशक सतीश माथुर के अनुसार प्रत्यक्षदर्शी बच्चों के अलग-अलग समूहों ने संदिग्धों की संख्या भिन्न-भिन्न बताई है. नवी मुंबई के पुलिस कमिश्नर हेमंत नगराले और अन्य वरिष्ठ अफसर उरण में उन बच्चों से संदिग्धों का और ब्योरा लेने की कोशिश कर रहे हैं. उरण में नवी मुंबई पुलिस एवं मुंबई में मुंबई पुलिस के अलावा एनएसजी एवं आतंकवाद निरोधक दस्ते (एटीएस) ने भी मोर्चा संभाल लिया है.

मुंबई दो बार समुद्री मार्ग से आतंकी हमले का शिकार हो चुकी है। पहली बार 12 मार्च, 1993 को मुंबई में हुए सिलसिलेवार बम विस्फोटों के लिए आरडीएक्स जैसी विस्फोटक सामग्री समुद्री मार्ग से ही लाई गई थी. जबकि दूसरी बार 10 पाकिस्तानी आतंकियों ने 26 नवंबर, 2008 को समुद्री मार्ग से ही मुंबई में घुसकर होटल ताज एवं सीएसटी रेलवे स्टेशन सहित कुछ और स्थानों पर चार दिन तक कहर ढाया था. इस हमले में चार दिनों में सुरक्षा बलों ने नौ आतंकियों को मार गिराया था, जबकि अजमल कसाब नामक एक आतंकवादी को जिंदा पकड़ लिया था.