हरिद्वार में मां की ममता कलंकित, बच्चे को कमरे में बंद कर प्रेमी संग फरार हुई महिला

कहा जाता है कि मां का अपने बच्चे के लिए प्यार अनकंडीशनल यानी बिना शर्त होता है. लेकिन आज के दौर में कई माएं ऐसी भी देखने को मिलती हैं, जो शायद अपने बच्चे से वैसा लगाव नहीं रख पाती हैं. ऐसा ही कुछ धार्मिक नगरी हरिद्वार में भी देखने को मिला है.

एक मां अपने चार साल के बच्चे को एक धर्मशाला के कमरे में बंद करके प्रेमी संग फरार हो गई. जाते समय उसने बच्चे पर बस इतनी मेहरबानी की कि एक तो उसकी जान नहीं ली और दूसरा उसके नाना का नम्बर अपने खून से दीवार पर लिख गई.

घंटों बाद बच्चे का शोर सुनकर धर्मशाला प्रबंधक ने बच्चे को बाहर निकाला और पुलिस को इसकी सूचना दी. अब बच्चा पुलिस के पास है और पुलिस ने बच्चे के नाना को मामले की जानकारी दे दी है.

धर्मशाला के कमरे में बेड पर खून बिखरा पड़ा था. शनिवार शाम भिवानी हरियाणा से एक बच्चे के साथ हरिद्वार की धर्मशाला में दंपत्ति आकार रुका था.

रविवार सुबह ये अपने बच्चे को कमरे में छोड़कर फरार हो गए. शाम को जब बच्चे के रोने की आवाज़ आयी तो धर्मशाला प्रबंधक ने दरवाज़ा खोला तो बच्चा भूख से बिलख रहा था. जब उसके परिजन नहीं लौटे तो उन्होंने मामले की जानकारी पुलिस को दी. कमरे में खून पड़ा था और खून से ही दीवार पर फोन नंबर लिखा था.

कोतवाली पुलिस का कहना है कि कमरे में एक बच्चा मिला है. कमरे में लिखे नंबर पर पता किया गया तो पता चला महिला तीन माह से बच्चे सहित झज्झर हरियाणा से लापता है. अब पुलिस मामले की जांच कर रही है. फिलहाल किसी के आत्महत्या करने की कोई सूचना नहीं है.

धर्मनगरी में हुए इस मामले ने मां की ममता को कलंकित करने में कोई कसर नहीं छोड़ी है. हालांकि बच्चा अब अपने नाना नानी के पास पहुंच जाएगा, लेकिन शायद अब उसे अपनी मां का आंचल कभी नसीब न हो पाए.