धमाकों और गिरफ्तार 4 आतंकियों के मामले में NIA टीम ने रुड़की में डाला डेरा

डेढ़ साल पहले डीएवी ग्राउंड के पास हुए धमाके और उसके बाद लंढौरा से धरे गए चार संदिग्ध आतंकियों के मामले में जांच पड़ताल के लिए एनआईए (नेशनल इनवेस्टीगेशन एजेंसी) टीम ने फिर रुड़की में डेरा डाल दिया है. दो दिन से टीम घटनास्थल और इसके आसपास के क्षेत्र का निरीक्षण कर रही है.

डीएवी ग्राउंड के बाहर छह दिसंबर 2014 को हुए धमाके में एक छात्र तुषार की मौत हो गई थी. रुड़की और हरिद्वार स्टेशनों को भी कई बार धमकी भरे पत्र मिल चुके हैं. इसके अलावा छह महीने पहले लंढौरा से धरे गए चार संदिग्ध आतंकियों के बाद से एनआईए टीम क्षेत्र में लगातार नजर रख रही है.

इसको लेकर रुड़की, लंढौरा और आसपास के क्षेत्रों की टीम कई बार छानबीन कर चुकी है. अब फिर दो दिन से एनआईए टीम रुड़की में डेरा डाले हुए है. इस दौरान उन्होंने न सिर्फ पुलिस और एलआईयू अधिकारियों से जानकारी जुटाई बल्कि घटनास्थल और आसपास के क्षेत्र का निरीक्षण भी किया.

इस संबंध में पुलिस क्षेत्राधिकारी एसके सिंह ने बताया कि रुटीन जांच के लिए एनआईए टीम आती है. फिलहाल टीम रुड़की में हुए बम धमाके और संदिग्धों के मामले में जांच पड़ताल कर रही है.