देहरादून : जंगल में मिली महिला की लाश की गुत्थी सुलझी, पति ही निकला कातिल

देहरादून पुलिस की गिरफ्त में आए आसाराम गौतम ने पत्नी के कत्ल की पटकथा तीन दिन पहले ही लिख दी थी. उसकी योजना कत्ल के बाद पत्नी का चेहरा जलाने की थी. पत्नी की चीख पुकार सुनकर बच्चों के आने से उसका पूरा खेल बिगड़ गया.

मजबूरन उसे सबूत छोड़कर भागना पड़ा. शव छिपाने के लिए आसाराम ने उन घनी झाड़ियों को चुना था, जहां किसी का आना-जाना नहीं था. उसने सोचा था कि पहचान न होने की स्थिति में उसका जुर्म सामने नहीं आएगा.

अस्थायी राजधानी देहरादून के पटेल नगर के चंद्रबनी खालसा में पत्नी की हत्या में पकड़े गए आसाराम गौतम ने कत्ल की वारदात को सुनियोजित ढंग से अंजाम दिया. दोनों के बीच अनबन की कहानी काफी पुरानी है, लेकिन तीन दिन पहले खीर की थाली फेंकने की घटना ने आग में घी डालने का काम किया.

एसएसपी डॉ. सदानंद दाते ने आरोपी से पूछताछ के आधार पर बताया कि गुरुवार को आसाराम ने पत्नी के साथ खीर खाने के लिए उसकी थाली पर हाथ लगाया था. सिर्फ हाथ लगाने से नाराज होकर पत्नी ने खीर की थाली फेंक दी थी. इस दौरान पत्नी ने कुछ ऐसे कड़वे शब्द कहे, जिसके बाद आसाराम ने उसे मारने का निर्णय लिया.

आसाराम ने कत्ल का प्लान तैयार किया. उसने पहले ही बोतल में मिट्टी का तेल और फिनाइल रख लिया था. एक दिन पहले जंगल में शव को छिपाने के लिए जगह तलाशी. सोमवार को आसाराम पत्नी को लकड़ी लाने के लिए जंगल ले आया. तभी आसाराम ने लकड़ी के फट्टे से उसके सिर पर प्रहार किया.

murder-dehradun

पहले प्रहार पर वह जोर से चिल्ला उठी, जिससे जंगल में खेल रहे बच्चे उधर आ गए. दूसरे प्रहार में पत्नी बेहोश हो गई. इसके बाद आसाराम ने कमीज से उसका गला दबाकर मार दिया. इसके बाद वह शव को छिपाकर मौके पर साइकिल छोड़कर भाग गया. एसएसपी ने बताया कि कत्ल के बाद आसाराम भुत्तोवाला स्थित घर पहुंचा और खून से सने कपड़े साफ किए. कपड़े बदलकर आरोपी घर से बाहर निकला. उस समय तीनों बच्चे स्कूल गए थे.

दोपहर बाद आसाराम ने इलाके के प्रधान को पत्नी के गुम होने की सूचना दी. प्रधान ने जब चंद्रबनी खालसा में किसी महिला का शव मिलने की खबर दी तो उसे अपनी योजना फेल होती दिखाई दी. बच्चों ने पिता की साइकिल पहचान ली तो पूरे रहस्य से पर्दा उठ गया. पोस्टमार्टम रिपोर्ट में भी महिला की मौत गला दबाकर होने की पुष्टि हुई है.

पटेल नगर पुलिस ने पत्नी की हत्या के आरोप में गिरफ्तार आसाराम गौतम को मंगलवार को कोर्ट में पेश किया, जहां से उसे जेल भेज दिया गया. आरोपी की योजना बरेली भागने की थी, लेकिन उससे पहले वह पकड़ में आ गया. पुलिस ने लखीमपुर खीरी से भी आरोपी के बयानों को तस्दीक किया है.

पटेल नगर कोतवाली क्षेत्र के चंद्रबनी खालसा में सोमवार सुबह करीब दस बजे महिला की हत्या से सनसनी फैल गई थी. सिर पर प्रहार करने के साथ महिला को गला दबाकर मारा गया था. हत्या का आरोपी मौके पर ही साइकिल, टी शर्ट, तेल और फिनाइल की बोतल छोड़कर फरार हो गया था. महिला की पहचान सोमवार रात आसाराम की पत्नी के रूप में हुई थी. देर रात उसे आईएसबीटी के पास से गिरफ्तार किया गया. एसपी सिटी अजय सिंह के अलावा पटेल नगर और एसओजी ने उससे पूछताछ की.

पति से कातिल यूं ही नहीं बना. कई साल से अपमान का घूंट पी रहा था. अब पानी सिर से ऊपर आ गया था. आखिर कब तक पत्नी की गलतियों पर पर्दा डालता. पुलिस अभिरक्षा में आसाराम के अंदर पत्नी के प्रति नफरत का गुबार था. गुस्से में उसका चेहरा तमतमाया था. आसाराम ने यह साबित करने की कोशिश की कि यदि वह पत्नी को नहीं मारता तो वह उसे मरवा देती. करीब दस दिन पहले पत्नी ने सोते समय गला दबाने की कोशिश की थी.