‘उस’ बिल्डिंग का उद्घाटन कर देते तो हर किसी के निशाने पर आ जाते सीएम हरीश रावत

मुख्यमंत्री हरीश रावत के हाथों सोमवार को एक गलती होते-होते बच गई. अगर वह यह गलती कर बैठते तो वे बुरे फंस जाते और विपक्ष के सीधे निशाने पर आ जाते.

मुख्यमंत्री को सोमवार को एक कॉम्पलेक्स का उद्घाटन करना था. बता दें कि वह जिस कॉम्पलेक्स का उद्घाटन करने जा रहे थे, उसके खिलाफ एमडीडीए में कार्रवाई चल रही है. नक्शे से ज्यादा निर्माण का नोटिस मिलने के बाद उसका कंपाउंडिंग के लिए मैप जमा हुआ है.

हालांकि अभी उसकी कंपाउंडिंग पर निर्णय नहीं हुआ है. अंतिम समय में इसकी जानकारी मिलने पर मुख्यमंत्री ने आनन-फानन में अपना कार्यक्रम बदल दिया. सोमवार को मुख्यमंत्री को बतौर मुख्य अतिथि करनपुर स्थित एक कॉम्पलेक्स में टू-व्हीलर शोरूम का उद्घाटन करना था. इसके लिए कई दिन पहले उन्होंने मंजूरी भी दे दी. जिसके बाद मेजबान ने मुख्यमंत्री के प्रोटोकोल के मुताबिक तैयारियां शुरू कर दीं.

निमंत्रण पत्र भी बांट दिए गए. सोमवार सुबह कार्यक्रम की सभी तैयारियां फाइनल हो गईं और सभी लोग मुख्यमंत्री का इंतजार करने लगे. तभी मुख्यमंत्री कार्यालय से सूचना मिली कि अपरिहार्य कारणों से मुख्यमंत्री नहीं पहुंच सकेंगे.

दरअसल मुख्यमंत्री तक अंतिम समय में किसी ने यह जानकारी पहुंचा दी कि जिस कॉम्पलेक्स का वह उद्घाटन करने जा रहे हैं, उसमें कुछ अवैध निर्माण हुआ है. नक्शे से हटकर और ज्यादा हुए निर्माण पर एमडीडीए ने नोटिस जारी किया था.

बाद में भवन स्वामी ने नक्शा कंपाउंडिंग के लिए एमडीडीए में जमा करवा दिया. एमडीडीए सचिव पीसी दुमका ने कंपाउंडिंग के लिए नक्शा जमा होने की पुष्टि की. उन्होंने बताया कि अभी कंपाउंडिंग पर निर्णय नहीं हुआ है. बायलॉज के अनुसार जांच के बाद ही आगे की कार्रवाई की जाएगी.