CM नीतीश कुमार के खिलाफ टिप्पणी मामले में आरजेडी नेता कर रहे हैं शहाबुद्दीन का समर्थन, जेडीयू ने जतायी आपत्ति

बिहार में सत्तारूढ़ जेडीयू-आरजेडी महागठबंधन सरकार में सोमवार को पहली बड़ी तल्खी दिखी. जेडीयू ने सोमवार को आरजेडी नेता रघुवंश प्रसाद सिंह द्वारा मोहम्मद शहाबुद्दीन की मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के खिलाफ की गई टिप्पणी का समर्थन किए जाने पर कड़ा ऐतराज जताया. जेडीयू ने आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद से अपील की कि वे अपनी पार्टी के भीतर गठबंधन धर्म की मर्यादा के पालन का भरोसा दिलाएं.

बिहार सरकार में वरिष्ठ मंत्री बिजेंद्र प्रसाद यादव और राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह ने जेडीयू कार्यालय में सोमवार को पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि रघुवंश प्रसाद सिंह बराबर टिप्पणी करते रहते हैं. अमर्यादित भाषा में बात करते हैं, जिसकी इजाजत गठबंधन धर्म नहीं देता. उनकी बातों में ओछापन है.

बिजेंद्र ने कहा कि गठबंधन धर्म का पालन करना सबका दायित्व बनता है. अगर उन्हें तल्खी और परेशानी है तो अपनी बात अपने दल के भीतर रखें. बीजेपी से ज्यादा विरोधी स्वर उनका रहता है. उन्होंने रघुवंश प्रसाद सिंह के बारे में कहा कि वे अपनी पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष हैं. लगातार बोल रहे हैं. इससे संदेश ठीक नहीं जाता है. वह आरजेडी के राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद से अपील करना चाहते हैं कि गठबंधन धर्म की मर्यादा के उल्लंघन पर रोक लगाने का भरोसा दिलाएं.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के करीबी माने जाने वाले इन दोनों जेडीयू मंत्रियों ने मीडिया के समक्ष आने के पूर्व मुख्यमंत्री के साथ बैठक की थी. मुख्यमंत्री ने शहाबुद्दीन की उस टिप्पणी कि वे ‘परिस्थितियों के मुख्यमंत्री’ हैं को महत्व नहीं देते हुए रविवार को कहा था कि दुनिया को मालूम है कि बिहार की जनता का क्या जनादेश है. तो हम जनता के मुताबिक चलें या कोई आदमी कुछ बोल रहा है उस पर ध्यान दें. आज तक हम लोगों ने कभी ध्यान दिया है. इन सब बातों का कोई महत्व नहीं है.

मोहम्मद शहाबुद्दीन की ओर से बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में विश्वास की कमी खुलकर जताए जाने के बाद रविवार को आरजेडी के वरिष्ठ नेता रघुवंश प्रसाद सिंह ने कहा था कि वह नीतीश को मुख्यमंत्री बनाने के पक्ष में नहीं थे, लेकिन महागठबंधन के फैसले को मानना पड़ा. राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह ने बीजेपी के वरिष्ठ नेता सुशील कुमार मोदी पर पटना हाईकोर्ट से जमानत मिलने के बाद शहाबुद्दीन की रिहाई के लिए राज्य सरकार के खिलाफ लगातार बयानबाजी करने के लिए कहा कि वे बिहार की जनता के बीच भय का वातावरण पैदा करना चाहते हैं.

जेडीयू के दोनों मंत्रियों बिजेंद्र प्रसाद यादव और राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह ने शहाबुद्दीन की टिप्पणी को लेकर पूछे जाने वाले सवालों को टालते हुए कहा कि सैंकडों लोग जेल जाते और बाहर आते हैं और उनकी बातों को हम महत्व नहीं देते. क्योंकि ऐसे किसी व्यक्ति की टिप्पणी से सरकार की छवि धुमिल होगी. ललन ने कहा कि कभी भी किसी जेडीयू नेता ने आरजेडी के किसी नेता के बारे में कोई टिप्पणी नहीं की.

सुशील के जेडीयू से निष्कासित और निर्दलीय विधायक अनंत सिंह की तरह शहाबुद्दीन पर सीसीए (अपराध नियंत्रण कानून) लागू किए जाने की मांग किए जाने पर बरसते हुए कहा कि पटना हाईकोर्ट के 2014 के उस आदेश को पढ़ना चाहिए, जिसमें साल 2013 में नौ महीने पूर्व एक व्यक्ति पर दर्ज मामले में उसे हिरासत में रखे जाने पर प्रश्न उठाया गया था. ऐसे में 11 साल पुराने एक मामले में कैसे शहाबुद्दीन पर सीसीए लगाया जा सकता है.

यह पूछे जाने पर कि क्या शहाबुद्दीन को मिली जमानत के खिलाफ राज्य सरकार हाईकोर्ट में अपील करेगी, इस पर दोनों मंत्रियों ने कहा कि कानून अपना काम करेगा.