राज्य में अशांति के बीच कश्मीर पंडितों ने गंगबल पहुंचकर की पूजा-अर्चना, शांति की कामना

घाटी में अशांति के बीच कश्मीरी पंडितों ने मध्य कश्मीर के गंदेरबल जिले में हरमुख गंगबल झील की तीर्थयात्रा की और राज्य में शांति के लिए प्रार्थना की. हरमुख गंगबल ट्रस्ट के महासचिव विनोद पंडित के नेतृत्व में कश्मीरी पंडितों के एक समूह ने गंगा अष्टमी पर इस तीर्थस्थान पर पूजा अर्चना की.

ऑल पार्टीज माइग्रेंट्स को-आर्डिनेशन कमेटी (एपीएमसीसी) के अध्यक्ष पंडित ने कहा, ‘यह आठवीं वार्षिक गंगबल यात्रा है जिसे हमने 100 वर्षों बाद 2009 में फिर से शुरू किया था.’ भगवान शिव के मंदिर जाने वाले रास्ते पर सुरक्षा बलों द्वारा सुरक्षा की व्यवस्था की गई थी.

यात्रा में शामिल होने के लिए बेंगलुरू से यहां आए सुनील टखरू ने कहा, ‘हमने कश्मीर में शांति और सामान्य स्थिति के बहाल होने की प्रार्थना की.’ एपीएमसीसी प्रमुख ने कहा, ‘कश्मीरी हिंदुओं के लिए यह स्थान हरिद्वार जितना महत्व रखता है. अतीत में समुदाय के मृत सदस्यों की अस्थियां यहां विसर्जित की जाती थीं.’ उन्होंने कहा कश्मीर में आतंकवाद की वजह से यात्रा प्रभावित हुई है.

पंडित ने कहा कि कश्मीर में चल रहे अशांति के माहौल की वजह से कई लोग यात्रा में शामिल नहीं हो सके. नौ सितंबर को शुरू हुई इस यात्रा का समापन कल हुआ.