खुशखबरी : उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश में खुलेंगे 23 नए कृषि विज्ञान केंद्र

कृषि तकनीक, बीज और खाद को किसानों तक पहुंचाने के लिए उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश में 23 कृषि विज्ञान केंद्र (केवीके) खोले जाएंगे. इसके लिए राज्य सरकार से जमीन मांगी गई है. गोरखपुर और कासगंज में जमीन मिल चुकी है. अन्य जिलों में जमीन की तलाश चल रही है.

कृषि प्रौद्योगिकी अनुप्रयोग अनुसंधान संस्थान (अटारी) के निदेशक डॉ. यूएस गौतम ने बताया कि केवीके की मदद से किसानों की आय बढ़ाने की कोशिश की जाएगी. नए केंद्र खुलने पर यूपी, उत्तराखंड में केवीके की संख्या 104 हो जाएगी. अटारी का क्षेत्रीय कार्यालय रावतपुर कानपुर नगर में है. इससे यूपी और उत्तराखंड के 81 केवीके जुड़े हैं. इनकी मदद से किसानों को फसल, मिट्टी, सिंचाई की जानकारी दी जाती है.

उत्तराखंड के पिथौरागढ़ और चमोली में खुलेंगे एक-एक और केवीके. इनके अलावा उत्तर प्रदेश में श्रावस्ती, अमरोहा, हापुड़, शामली, संभल, कासगंज और अमेठी में पहला केवीके खुलेगा.

यूपी के लखीमपुर खीरी, हरदोई, आजमगढ़, जौनपुर, बदायूं, सुल्तानपुर, बहराइच, गोरखुपर, मुरादाबाद, गोंडा, गाजीपुर, रायबरेली, इलाहाबाद, मुजफ्फरनगर जिलों में खुलेगा दूसरा केवीके.