भाजपा महिला कार्यकर्ताओं ने केजरीवाल को भेट किए ‘चूड़ियां व गुलाब’

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की महिला मोर्चा ने गुरुवार को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के पंजाब रवाना होने से पहले नई दिल्ली रेलवे स्टेशन पर उनके खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया. भाजपा महिला मोर्चा की सदस्यों तथा पार्टी के अन्य कार्यकर्ताओं ने केजरीवाल पर आम आदमी पार्टी (आप) के नेता आशुतोष के खिलाफ कार्रवाई करने में ‘नाकामी’ को लेकर विरोध जताया और उन्हें ‘चूड़ियां व गुलाब’ दिए.

केजरीवाल के खिलाफ प्रदर्शन का नेतृत्व महिला मोर्चा की अध्यक्ष कमलजीत शेरावत और भाजपा मीडिया प्रभारी प्रवीण शंकर कपूर ने किया. ये सभी नई दिल्ली रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर-1 पर जमा हुए.

शेरावत ने यहां संवाददाताओं को बताया, ‘जब हम उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया से मिलने गए, तो हमने कहा था कि अगर केजरीवाल महिलाओं के खिलाफ अभद्र व्यवहार को लेकर आशुतोष को पार्टी से नहीं निकालते और इसी तरह के आरोपी विधायकों को विधानसभा से नहीं हटाते हैं तो हम उनका घेराव करेंगे और उन्हें चूड़ियां भेंट स्वरूप देंगे. आज (गुरुवार) हमने घेराव किया, क्योंकि वह पंजाब भागने की कोशिश कर रहे थे.’

आशुतोष ने सेक्स टेप सामने आने के बाद दिल्ली सरकार से बर्खास्त हुए मंत्री संदीप कुमार के बचाव में समाचार वेबसाइट के लिए एक ब्लॉग लिखा था.

इस ब्लॉग में आशुतोष ने पार्टी से कुमार को निलंबित किए जाने के फैसले को गलत करार देते हुए कहा कि वीडियो में उनके साथ नजर आईं महिला ने सहमति से संबंध बनाए. आशुतोष ने इसके साथ ही कुमार की तुलना महात्मा गांधी और जवाहरलाल नेहरू से भी की.

रेलवे स्टेशन में गुरुवार को भीड़-भाड़ होने तथा केजरीवाल की सुरक्षा में भारी संख्या में पुलिसकर्मियों के तैनात होने के बावजूद कपूर मुख्यमंत्री तक पहुंचने में सफल रहे और उन्हें चूड़ियां तथा फूल भेंट किए तथा उनसे दिल्ली में सत्ता में आने से पहले लोगों से किए गए वादे को निभाने के लिए कहा.

दिल्ली के उप मुख्यमंत्री सिसोदिया ने इस घटना की निंदा करते हुए इसके लिए इसके लिए दिल्ली पुलिस की भी आलोचना की.

सिसोदिया ने कहा, ‘पुलिस इस पूरे घटनाक्रम के दौरान मूकदर्शक बनी रही. मीडियाकर्मी वहां पहले से ही मौजूद थे. यह साफ है कि सबकुछ पूर्व नियोजित था.’

दिल्ली उपमुख्यमंत्री ने कहा कि दिल्ली पुलिस और भाजपा, मोदी के इशारे पर केजरीवाल के खिलाफ साजिश रच रही है और बुधवार सुबह की घटना इसका एक नमूना है.