रानीखेत : फिर से खुलेगा पुराना चारधाम यात्रा मार्ग, कोसी घाटी में बनेगा सराय

ऐतिहासिक पुराना चारधाम यात्रा मार्ग यानी खैरना-रानीखेत स्टेट हाईवे दोबारा अपनी पहचान बनाएगा. अल्मोड़ा व नैनीताल जिले की सीमा पर कोसी घाटी में सराय निर्माण को हरी झंडी मिल गई है. इसका उद्देश्य चारधाम यात्रियों के साथ ही पहाड़ के पर्यटक स्थलों को जाने वाले आम सैलानियों को ठहरने की सुविधा मुहैया कराना है. सरकार ने टोकन मनी जारी कर प्रशासन से भूमि चिह्नित कर जल्द से जल्द प्रस्ताव भेजने के निर्देश दिए हैं.

किसी दौर में खैरना-रानीखेत स्टेट हाईवे चारधाम यात्रियों के लिए सबसे सुगम मार्ग हुआ करता था. विभिन्न पड़ावों से होते हुए धार्मिक यात्रा पर निकले श्रद्धालु वर्षों पूर्व इस रूट को पैदल मार्ग के रूप में भी इस्तेमाल करते थे. सरकार की इस पहल के बाद अब यह राजमार्ग दोबारा सुर्खियों में आएगा.

अंतरजनपदीय सीमा पर खैरना व गरमपानी के आसपास सराय स्थापित किया जाएगा. इसके तहत करीब दो नाली (4200 वर्ग मीटर) क्षेत्रफल में चार कमरे, डोरमेट्री व प्रसाधन केंद्र बनाए जाने की योजना है. इससे चारधाम यात्रियों के साथ ही पर्यटन नगरी रानीखेत, अल्मोड़ा, कौसानी, जागेश्वर आदि पर्यटक स्थलों की सैर तथा आम यात्रियों को ठहरने की बेहतर सुविधा मिल सकेगी. मध्यवर्ग के यात्रियों को भी सराय का बड़ा लाभ मिलेगा.