पवित्र कैलाश-मानसरोवर यात्रा समाप्त, तीर्थयात्रियों का अंतिम जत्था गुंजी पहुंचा

कैलाश मानसरोवर यात्रा का रविवार को समापन हो गया और 38 तीर्थयात्रियों का अंतिम जत्था रविवार सुबह भारतीय क्षेत्र में लिपुलेख दर्रा पहुंचा.

तीर्थयात्रा की नोडल एजेंसी कुमाऊं मंडल विकास निगम (केएमवीएन) के क्षेत्रीय प्रबंधक (पर्यटन) डी.के. शर्मा ने कहा कि कैलाश मानसरोवर यात्रियों का अंतिम जत्था रविवार रात गुंजी शिविर में ठहरेगा और 6 सितंबर को धारचुला पहुंचकर 9 सितंबर को नई दिल्ली पहुंचेगा. इसके साथ इस साल कैलाश मानसरोवर यात्रा का समापन हो जाएगा.

शर्मा के अनुसार, ‘कैलाश मानसरोवर यात्रा इस साल सुगम रही, क्योंकि किसी जत्थे को प्राकृतिक कारणों से किसी तरह के अवरोध का सामना नहीं करना पड़ा जो बहुत आम होते हैं.’

नोडल एजेंसी के मुताबिक यात्रा 12 जून को शुरू हुई थी और देशभर से 714 तीर्थयात्रियों ने लिपुलेख यात्रा मार्ग से इसे पूरा किया.