भाभी के साथ थे अवैध संबंध, पत्नी को पता चला तो उसे रास्ते से हटा दिया

उधमसिंह नगर में गदरपुर के ग्राम झगड़पुरी में चार माह पूर्व ब्याह कर लाई गई युवती की ससुराल में हत्या कर दी गई. पुलिस को भटकाने के लिए ससुरालियों ने मामले को कथित तौर पर लूट के बाद हत्या का रूप दे दिया. हिरासत में लिए गए पति ने कबूला कि भाभी के साथ अपने अवैध संबंधों को छिपाने के लिए उसने शूटरों से पत्नी की हत्या करवा दी. पुलिस ने मामले में महिला के जेठ और ससुर को भी हिरासत में लिया है.

झगड़पुरी के वाहिद अली के बेटे मेहरबान का निकाह चार महीने पहले रामपुर (यूपी) की स्वार तहसील के गांव मीरापुर निवासी नजाकत अली की बेटी फईमजहां के साथ हुआ था.

मंगलवार सुबह मेहरबान अली ने बताया कि वह अपने परिवार के साथ घर में सोया था. बरामदे में पिता वाहिद अली और मां शफीकन सोई थी. करीब तीन बजे हथियारों से लैस दो नकाबपोश बदमाश घर में घुस आए और उन्होंने पहले वाहिद और शफीकन को जगाकर बंधक बना लिया. इसके बाद मेहरबान के कमरे का दरवाजा खुलवाया. जैसे ही मेहरबान ने कमरे का दरवाजा खोला, बदमाशों ने तमंचे के बल उसे और उसकी पत्नी को भी बंधक बना लिया.

एक बदमाश सेफ में रखे जेवरात और नगदी निकालने लगा. इस दौरान पत्नी फईमजहां के विरोध करने पर बदमाशों ने उस पर गोली चला दी. गोली फईम के सिर में लगी और उसकी मौके पर ही मौत हो गई. बकौल मेहरबान घटना के बाद बदमाश दीवार फांदकर फरार हो गए. उसके बाद बंधक परिवार के शोर मचाने पर आसपास के लोग मौके पर पहुंचे, उन्होंने दरवाजा खोला.

घटना की सूचना थाने में दी गई. सूचना पर एसएसपी अनंत शंकर ताकवाले, एएसपी रुद्रपुर पंकज भट्ट, एएसपी काशीपुर कमलेश उपाध्याय, सीओ राजेश भट्ट, फिंगरप्रिंट एक्सपर्ट दयाल शरण सहित पुलिस बल लेकर मौके पर पहुंचे. उन्होंने घटनास्थल की जांच की. पीड़ित परिवार की शिकायत के आधार पर लूट और हत्या का मुकदमा दर्ज कर पुलिस पड़ताल में जुट गई.

मामले को गंभीरता से लेते हुए एसएसपी ने घटना के खुलासे के लिए पुलिस की छह टीमें गठित कर दी गई. इसी बीच, मायके वाले भी पहुंच गए. उन्होंने ससुरालियों पर हत्या का आरोप लगाते हुए जमकर हंगामा काटा. पुलिस ने हंगामा कर रहे मायकेवालों को जांच के बाद कार्रवाई किए जाने का आश्वासन दिया. पोस्टमार्टम के बाद मायके वाले शव अपने गांव ले गए.

फईमजहां और मेहरबान अली के परिजन जब शव को दफनाने के लिए कब्रगाह पहुंचे तो फईमजहां के परिजनों ने मेहरबान के घरवालों से उनकी बेटी की मौत का कारण पूछते हुए मारपीट शुरू कर दी. कुछ ग्रामीणों ने पिता-पुत्र को भीड़ के चंगुल से छुड़ाया. इस बीच स्वार पुलिस भी मौके पर पहुंच गई. पुलिस ने लोगों को समझा-बुझाकर शव सुपुर्दे-खाक कराया. स्वार पुलिस से विवाद की सूचना मिलने पर एएसपी काशीपुर कमलेश उपाध्याय पुलिस बल के साथ मीरापुर पहुंच गए. उन्होंने आरोपी पिता-पुत्र को हिरासत में लेकर पूछताछ की.

इस पर मेहरबान अली ने कबूला कि उसने शूटरों से फईम की हत्या करवाई. हत्या के पीछे पति का अपनी भाभी के साथ अवैध संबंध होना बताया जा रहा है, जो मेहरबान की शादी से पहले से थे. शादी के बाद फईम को उसके पति के भाभी के साथ अवैध संबंधों की भनक लग गई. इस पर पति-पत्नी में कहासुनी भी हुई.

मेहरबान ने अपने अवैध संबंधों को बचाने और मामला खुलने के डर से फईम को रास्ते से हटाने की ठान ली. इसके बाद मेहरबान अली ने शूटर बुलाकर फईम जहां की हत्या करवा दी. घटना में मेहरबान के भाई रहमत अली के शामिल होने पर उसको भी हिरासत में लिया गया.