मध्य प्रदेश में बारिश और बाढ़ से 1067 करोड़ रुपये का नुकसान

मध्य प्रदेश में हुई भारी बारिश और उसके बाद आई बाढ़ से राज्य में बड़े पैमाने पर जानमाल की क्षति हुई है. प्रारंभिक आकलन के मुताबिक, यह नुकसान 1,067 करोड़ रुपये के करीब है, जिसका ब्यौरा राहत आयुक्त ने सरकार के समक्ष पेश किया है. राज्य में पिछले दिनों हुई बारिश ने जमकर तबाही मचाई, जिसके चलते जनजीवन बुरी तरह प्रभावित हुआ. बारिश से सड़कों से लेकर बांध तक टूट गए. 100 से अधिक गांव जलमग्न हो गए और फसल को बड़े पैमाने पर नुकसान हुआ.

नुकसान को लेकर तैयार राहत आयुक्त के प्रतिवेदन के अनुसार, राज्य में बारिश से 1,067 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है. बारिश और बाढ़ के चलते 184 लोगों की जान जा चुकी है, जबकि 30 लोग घायल हुए हैं. 400 मवेशियों की जान गई है. 80 हजार मकान क्षतिग्रस्त हुए हैं, जबकि 55 हजार बाढ़ प्रभावितों को राहत शिविरों में रखना पड़ा. प्रभावितों को सुरक्षित निकालने के लिए रीवा व सतना जिलों में भारतीय वायु सेना के दो हेलीकॉप्टर की मदद ली गई.

प्रारंभिक आकलन के अनुसार, चार लाख हेक्टेयर से ज्यादा क्षेत्र में सोयाबीन, उड़द, मूंग, तिल आदि की फसलों को नुकसान पहुंचा है। इसके अलावा 4,500 किलोमीटर लंबी सड़क क्षतिग्रस्त हुई, जबकि 12 पुल टूट गए.

राहत और बचाव के लिए किए गए इंतजामों का जो ब्यौरा दिया गया है, उसके मुताबिक बाढ़ प्रभावित परिवारों को 50 किलोग्राम अनाज व पांच लीटर केरोसिन मुहैया कराया गया है. बाढ़ प्रभावित परिवारों की संख्या करीब 1,10,000 है.