किशोर उपाध्याय के बाद अब महिला कांग्रेस अध्यक्ष सरिता आर्या ने बढ़ाई मुख्यमंत्री हरीश रावत की मुश्किलें

उत्तराखंड कांग्रेस में संगठन और सरकार की गुटबाजी थमने का नाम नहीं ले रही है. प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष किशोर उपाध्याय अक्सर ही हरीश रावत सरकार में संगठन की सुनवाई न होने के आरोप लगाते रहे हैं. अब महिला कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष सरिता आर्या ने भी हरीश रावत सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि विधानसभा और सरकार में महिलाओं को ज्यादा प्रतिनिधित्व मिलना चाहिए.

ऐसे में जब विधानसभा चुनाव सिर पर हैं, इस तरह के बयान मुख्यमंत्री हरीश रावत पर दबाव बनाने के रूप में देखे जा रहे हैं, जिससे कि महिला कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष को भी टिकट बंटवारें में वेटेज मिल सके.

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष किशोर उपाध्याय के बाद अब राज्य महिला कांग्रेस ने भी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. महिला कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष ने सरिता आर्या ने साफ कर दिया है कि 2017 के विधानसभा चुनावों में महिलाओं की भागिदारी बढ़नी चाहिए.

मीडिया से बातचीत के दौरान सरिता आर्या ने कहा है कि वह राज्य की उन महिलाओं को विधानसभा में देखना चाहती हैं, जो जनता की पैरवी करती हैं. इतना ही नहीं सरिता आर्या ने कहा है कि पहले तो 33 प्रतिशत सीटें महिलाओं को मिलें. अगर ऐसा नहीं होता है तो 25 प्रतिशत सीटों पर महिलाओं को चुनाव लड़ाने के लिए वह सरकार व संगठन से बात करेंगी.

वहीं बीजेपी पर हमला करते हुए राज्य महिला कांग्रेस की प्रदेश अध्यक्ष सरिता आर्या ने कहा कि बीजेपी, निशंक सरकार के साथ हरक सिंह रावत व पूर्व सीएम विजय बहुगुणा के काले कारनामों को छिपाने के लिए पर्दाफाश का बहाना कर रही हैं.

इसके साथ ही कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि महंगाई देश में बढ़ती जा रही है, लेकिन कांग्रेस सरकार के दौरान प्रर्दशन करने वाली महिला सांसद चुप हैं. सरिता आर्या ने साफ कर दिया है कि अगर बीजेपी पर्दाफाश रैली कर रही है तो वह न सिर्फ राज्य में बीजेपी के खिलाफ यात्रा निकालेंगी, बल्कि दिल्ली में राज्य की महिलाओं के साथ प्रर्दशन करेंगी.