गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में आज शपथ लेंगे रूपानी

विजय रूपानी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गृह राज्य गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में रविवार को शपथ लेंगे. गुजरात में अगले साल विधानसभा चुनाव होने हैं और बीजेपी पटेल आंदोलन तथा दलितों पर हमलों को लेकर बेचैनी का सामना कर रही है.

साठ वर्षीय रूपानी ने आज राज्यपाल ओ पी कोहली से मिलकर सरकार बनाने का दावा पेश किया. आनंदीबेन पटेल के उत्तराधिकारी के रूप में रूपानी को रविवार को बीजेपी विधायक दल का नेता चुना गया था. केन्द्रीय नेतृत्व ने उनके चुनाव में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी.

राज्यपाल से मिलने के बाद बीजेपी के प्रदेश प्रभारी दिनेश शर्मा ने कहा कि रूपानी रविवार दोपहर 12:40 बजे शपथ-ग्रहण करेंगे. रूपानी के साथ भावी उप-मुख्यमंत्री नितिन पटेल सहित राज्य के कई अन्य नेताओं ने राज्यपाल से मुलाकात की. हालांकि निवर्तमान मुख्यमंत्री आनंदीबेन पटेल इस मुलाकात के दौरान मौजूद नहीं थीं .

मुलाकात के बाद शर्मा ने कहा, ‘हमने राज्यपाल को बताया कि बीजेपी विधायक दल ने नए मुख्यमंत्री के तौर पर विजय रूपानी और उप-मुख्यमंत्री के तौर पर नितिन पटेल के नामों का समर्थन किया है.’ शर्मा ने कहा, ‘राज्यपाल ने शपथ ग्रहण के लिए अपनी मंजूरी दे दी है. शपथ ग्रहण रविवार दोपहर 12:40 बजे आयोजित किया जाएगा.’

बहरहाल, उन्होंने इस सवाल का सीधा जवाब नहीं दिया कि मुलाकात के दौरान आनंदीबेन क्यों गैर-मौजूद थीं. शर्मा ने सिर्फ इतना कहा, ‘जब उन्होंने इस्तीफा दिया उस वक्त वह मौजूद थीं . आज वे मौजूद थे जिन्हें चुना गया है.’

शुक्रवार को बीजेपी के केंद्रीय नेतृत्व ने नए मुख्यमंत्री के तौर पर अमित शाह के वफादार और पार्टी प्रदेश अध्यक्ष रूपानी के नाम पर मुहर लगाई, जबकि आखिरी वक्त तक यह कयास लगाए जा रहे थे कि नितिन पटेल ही राज्य की सत्ता की कमान संभालेंगे.

आनंदीबेन ने नितिन पटेल को उत्तराधिकारी बनाने पर जोर दिया था जबकि शाह रूपानी के साथ थे. मोदी सहित केन्द्रीय नेतृत्व के हस्तक्षेप के बाद समझौते के फार्मूले के तौर पर पटेल को उपमुख्यमंत्री बनाने का फैसला हुआ.

पटेल समुदाय ओबीसी आरक्षण की मांग को लेकर आंदोलन पर उतारू है जबकि राज्य में उना प्रकरण के बाद दलित समुदाय नाराज है. आरएसएस पृष्ठभूमि से आने वाले रूपानी को चुनावों में बीजेपी का नेतृत्व करने का जिम्मा ऐसे समय में दिया गया है जब बीजेपी अपने राजनीतिक आधार को कायम रखने के लिए संघषर्रत है. पार्टी राज्य में मोदी के कद के नेता की कमी महसूस कर रही है.

इस नवंबर में 75 वर्ष की हो रहीं आनंदीबेन ने बुधवार को राज्यपाल को अपना इस्तीफा सौंपा था. उनके नेतृत्व में पिछले वर्ष बीजेपी ने निकाय चुनाव में हार झेली थी और विपक्षी कांग्रेस को लाभ हुआ था. इस बीच, रूपानी ने प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष के पद से इस्तीफा दे दिया.

रूपानी ने कहा, ‘मैंने आज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को गुजरात बीजेपी अध्यक्ष के पद से इस्तीफा दे दिया. ‘रूपानी और पटेल गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री केशुभाई पटेल से आशीर्वाद लेने उनके घर गए. केशुभाई ने कहा, ‘वे आशीर्वाद लेने यहां आए थे. मैंने उन्हें उनकी नई जिम्मेदारियों के लिए शुभकामनाएं दीं.’