सहसपुर गैंगरेप : न्यायिक हिरासत में भेजे गए आरोपी, महिला आयोग ने की पीड़ित की काउंसलिंग

सहसपुर पुलिस ने किशोरी से गैंगरेप के दो नाबालिक आरोपियों को कोर्ट में पेश किया. जहां से उन्हें न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया. जबकि एक नाबालिक आरोपी को बाल न्यायालय में पेश किया गया, जहां से उसे बाल सुधार गृह भेज दिया गया. वहीं महिला आयोग की सदस्य सचिव रविंद्री मंद्रवाल ने थाने पहुंचकर पीड़ित किशोरी की काउंसलिंग की. उसे आयोग की ओर से हर संभव मदद का भरोसा दिलाया.

31 जुलाई को मूल रूप से यूपी के लखीमपुर की रहने वाली किशोरी को तीन बाइक सवार युवक बहला-फुसलाकर ट्यूबवैल पर ले गए, जहां उसके साथ गैंगरेप किया गया. किशोरी को तीनों युवक बेहोशी की हालत में छोड़कर फरार हो गए. होश आने पर पीड़ित ने घर आकर परिजनों को मामले की जानकारी दी.

परिजनों ने आरोपियों के परिवार से विरोध जताया तो आरोप है कि क्षेत्र के दबंगों ने आरोपियों को बचाने के लिए पीड़ित के परिजनों पर समझौते का दबाव बनाया. वे इसमें लगभग कामयाब हो गए थे. इस बीच किसी ने पुलिस के आला अधिकारियों को गैंगरेप की जानकारी दे दी.

एसएसपी दफ्तर से फोन आने पर कुछ ही देर में सहसपुर पुलिस सक्रिय हो गई. तुरंत हरकत में आई पुलिस ने मंगलवार की रात को ही आरोपी भूरान पुत्र अब्दुल सलाम, जहीर अहमद पुत्र अब्दुल करीम और एक नाबालिक को गिरफ्तार कर लिया था. सभी आरोपी शंकरपुर सहसपुर के रहने वाले हैं.