चोरगलिया के नाम पर स्थानीय राजनीति में उबाल, यहां कोई कहे- ‘नाम में क्या रखा है?’

नैनीताल में चोरगलिया तहसील का नाम बदलने को लेकर गरमायी स्थानीय राजनीति को मजबूती देने के के लिए एक के बाद महापंचायतों का आयोजन किया जा रहा है.

महापंचायत में नाम बदलने के पक्षधर और नाम इसके विरोधी लोग शामिल हुए. हर किसी ने अपने-अपने तर्क रखे. पूर्व ग्राम प्रधान बहादुर सिंह कार्की पहले तो नाम बदलने के पक्ष में थे लेकिन गुरुवार को आयोजित हुई महापंचायत में उन्होने अपना मन बदल दिया.

अब वे नाम न बदलने के पक्ष वालों के साथ खड़े हो गए है. अधिकतर स्थानीय लोगों ने नाम न बदलने की वकालत की. रमेश शर्मा और पी.सी. पोखरिया ने कहा है कि इस मुददे की जगह विकास के मुददे पर बात होनी चाहिए.

इस महापंचायत से पहले हुई महापंचायत में कुछ स्थानीय लोगों ने चोरगलिया का नाम बदल कर नारायण नगर रखने का प्रस्ताव पारित किया था.