नैनीताल : नए मेहमानों से गुलजार हुआ चिड़ियाघर, पर्यटकों में खुशी की लहर

नैनीताल का चिड़ियाघर यहां आने वाले पर्यटकों को खासा लुभाता है। यहां आकर वन्य जीवों का दिदार सैलानियों को रोमांचित करता है। इसके लिए जू में देश के अन्य चिड़ियाघरों से लाकर जानवरों को भी रखा गया है। लेकिन इस बार खुशी की बात यह है की सरोवर नगरी के इस प्राणी उघान में नए मेहमानों ने दस्तक दी है।

नैनीताल प्राणी उघान में इन दिनों खुशियां मनाई जा रही हैं। हो भी क्यों नहीं ग्वालियर जू से लाये गए मोर के जोड़े ने तीन बच्चों को जन्म दिया है। इन तीनों बच्चों के साथ मोरनी का भी स्वास्थ्य बिल्कुल ठीक बताया जा रहा है।

ये पहला मौका है जब मोर ने उच्च स्थलीय प्राणी उघान में बच्चों को जन्म दिया हो। हांलाकि अभी इन बच्चों और मोरनी को डाक्टरों की देखरेख में रखा गया है, जो इनकी हर हरकत पर नजर रखे हुए हैं।

जू के डॉक्टर योगेश भारद्वाज का कहना है कि पहली बार इतनी ऊंचाई पर मोर ने बच्चों को जन्म दिया है, जिसके चलते उनकी चुनौतियां बढ़ गई हैं। साथ ही बच्चों की हर हरकत पर नजर रखी जा रही है, ताकि कोई दिक्कत न हो। खास तौर पर मोरनी के खाने की गुणवत्ता में परिवर्तन किया गया है।

इतना ही नहीं जू में हिरन के जोड़े ने भी एक बच्चे को जन्म दिया है, तो एक घूरल भी नए मेहमान के तौर पर जू में जन्मा है। इसके साथ ही गर्मियों की शुरुआत में आग की घटना के वक्त ओखलकांडा और राजभवन में रैस्क्यू के दौरान मिले दो हिरन के बच्चों को इलाज के बाद प्राणी उघान के बाड़े में रखा गया है।

7 कलीज फिजेंट व 6 चीड फिजेंट ने भी बच्चों को जन्म दिया है। नए मेहमानों के जू में आने के बाद जू प्रबंधन में खुशी की लहर है। पर्यटकों को भी इन नए मेहमानों के दिदार कराए जा रहे हैं।

जू रैंज अधिकारी प्रमोद तिवारी ने बताया है कि नए मेहमानों को अभी बाड़े में रखा गया है। इनमें कुछ को पर्यटकों के लिए खोल दिया गया है। साथ ही मोर के नए परिवार को एक महिने बाद सैलानियों के दिदार के लिए रख दिया जाएगा।

बहरहाल जू में आए इन नए मेहमानों से चिड़ियाघर गुलजार हुआ है तो सैलानियों को भी इन परिंदों के साथ हिरनों के दिदार हो रहे हैं।