नैनीताल जिले में भी पूरे धूमधाम से मनाया जा रहा है 17वां कारगिल विजय दिवस

17वां कारगिल विजय दिवस पूरे सम्मान के साथ जिले भर में मनाया गया। मुख्य समारोह नगर निगम सभागार में आयोजित किया गया। कार्यक्रम में जिलाधिकारी दीपक रावत मेयर, डा0 जोगेन्द्र पाल सिह रौतेला, जिला पंचायत अध्यक्ष सुमित्रा प्रसाद, ने कारगिल युद्ध में जिले के शहीद वीरों के चित्रों पर पुष्पचक्र एवं पुष्पांजलि अर्पित कर उन्हे श्रद्धांजलि दी। इस अवसर स्कूली छात्राओं द्वारा देश भक्ति पर आधारित गीत एवं नाटक भी प्रस्तुत किये। कारगिल युद्ध पर डाक्यूमैंट्री फिल्म भी प्रदर्शित की गयी।

कार्यक्रम में शहीदो की वीरांगनाओं व परिजनो एवं जाबांज सैनिकों को शाल उठाकर सम्मानित किया गया, जिनमें वीरांगना श्रीमती उमा देवी, जयन्ती देवी, अनिता कुमारी, मोतिमा देवी, धना देवी, जानकी देवी के साथ ही परिजन माता जीवन्ती देवी, पिता सदानन्द ध्यानी, भाई गणेशदत्त जोशी, वीर सैनिक कै0 एचएस बिष्ट, प्रकाशचन्द्र जोशी, हवलदार विमल बहादुरपाल, हा0 भूपाल सिंह, ना0 कैलाशचन्द्र, को शाल ओढाकर सम्मानित किया गया।

अपने सम्बोधन में जिलाधिकारी दीपक रावत ने कहा कि कि भारतीय इतिहास का यह वो महत्पूर्ण दिन है जिस दिन हमारे देश के महान वीर सपूतों ने हंसते-हंसते मातृभूमि की रक्षा करते हुये अपने प्राणो का बलिदान देकर 26 जुलाई 1999 को कश्मीर के कारगिल जिले मे पाकिस्तानी घुसपैठियों को खदेडा था। भारतीय सेना ने आपरेशन विजय संचालित कर आज से 17 वर्ष पूर्व ये महान उपलब्धि हासिल की थी। कारगिल युद्ध में हमारे लगभग 500 वीर योद्धा शहीद हुये थे। उन्होने कहा कि पूर्व सैनिको तथा शहीद हुये सैनिको के परिवारों की समस्याओं का प्राथमिकता के आधार पर निराकरण किया जायेगा। उन्होने कहा कि सरकार द्वारा सैनिको के लिए अनेक योजनाये प्रारम्भ की गयी है। जिलाधिकारी ने कहा कि पूर्व सैनिक जनमिलन केन्द्र के लिए फर्नीचर आदि हेतु धनराशि उपलब्ध करायी जायेगी।

अपने सम्बोधन में मेयर डा0 रौतेला ने कहा कि उत्तराखण्ड वीरो की भूमि है यहां के सैनिको ने समय-समय पर अपने प्राणों की आहुति देकर देश का मान बढाया है। उन्होने कारगिल युद्ध में शहीद जनपद नैनीताल के मेजर राजेश अधिकारी, नायक मोहन सिह, लांसनायक चन्दन सिह, लांसनायक रामप्रसाद, सिपाही मोहन चन्द्र जोशी की शहादत को याद करते हुये कहा कि हमें उनकी शहादत पर गर्व है। उन्होने कहा कि आज की युवा पीढी को ज्ञान और संस्कार लेना चाहिए क्योकि राष्ट्र भक्ति से बढकर कोई धर्म नही है।

अपने सम्बोधन में अध्यक्ष जिला पंचायत सुमित्रा प्रसाद ने शहीदो को नमन करते हुए कहा कि हमें वीरों की शहादत पर गर्व है। उनकी बलिदानी की बदौलत ही हम शान्ति एवं अमन चैन से जीवन जी रहे हैं। उन्होनें कहा कि उत्तराखण्ड के सैनिकों का इतिहास शौर्य पराक्रम रहा है। इससे प्रदेश का ही नहीं अपितु देश का नाम भी विश्व में ऊंचा उठा है।

इस अवसर पर खेल विभाग द्वारा आयोजित क्रांस कन्ट्री रेस के जूनियर वर्ग में सचिन वैश्य, सागर कोरंगा, मणिशंकर तिवारी व ओपन वर्ग में विकास कुमार, राहुल अधिकारी व उमेश सिंह को प्रथम-द्वितीय-तृतीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया। इसी प्रकार निबन्ध प्रतियोगिता में प्रथम जीजीआईसी हल्द्वानी की बनीता लोहनी, द्वितीय एमपीआई भीमताल के राजेन्द्र साहनी, व तृतीय जीजीआईसी कोटाबाग की कामाक्षी को भी सम्मानित किया गया।

कार्यक्रम में जनरल इन्द्रजीत सिंह वोरा, सेवा0नि0 कर्नल एलके रावल, कर्नल दर्शनसिह कार्की, कर्नल डीएस बसेडा, क0 बंशीधर काण्डपाल, एचएस बिष्ट, मेजर बीएस रौतेला, उपजिलाधिकारी पंकज उपाध्याय, सहायक निदेशक खेल अख्तर अली ने भी श्रद्धासुमन अर्पित किये। कार्यक्रम में बडी संख्या मे भूतपूर्व सैनिक उनके परिजन एवं गणमान्य नागरिक मौजूद थे।