मुख्यमंत्री हरीश रावत ने पीएम मोदी से मिलकर आपदा से हुए नुकसान के लिए 500 करोड़ की मदद मांगी

मुख्यमंत्री हरीश रावत ने मंगलवार को दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मुलाकात की। मुलाकात के बाद मुख्यमंत्री ने ट्वीट करके बताया कि उन्होंने उत्तराखंड में आपदा से हुई व्यापक क्षति को देखते हुए तत्काल सहायता का अनुरोध किया है।

उत्तराखंड के विभिन्न हिस्सों में भारी बारिश और भूस्खलन के कारण हुई व्यापक नुकसान को देखते हुए राज्य सरकार ने केंद्र से मंगलवार को 500 करोड़ रुपये की मांग की। इसके अलावा कम से कम 350 गांवों को सुरक्षित स्थानों पर पुनर्वास करने के लिए अलग से धन और संसाधनों की मांग की है।

एक सरकारी विज्ञप्ति में बताया गया कि मुख्यमंत्री हरीश रावत ने दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात के दौरान ये मांग रखी। हाल की बारिश से हुए नुकसान का ब्यौरा प्रधानमंत्री के समक्ष पेश करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि इस बारिश में राज्य को एक हजार करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है, जो सितम्बर के अंत तक बढ़कर 1500 करोड़ रुपये हो सकता है।harish-rawat-narendra-modi1

उन्होंने कहा कि पिथौरागढ़, उत्तरकाशी और चमोली जिले में अमूल्य मानवीय जीवन के नुकसान के अलावा संपत्ति और ढांचागत सुविधाओं को भी काफी नुकसान पहुंचा है। राज्य सरकार के पास सीमित संसाधनों का हवाला देते हुए उन्होंने प्रभावित इलाकों में जनजीवन को पटरी पर लाने के लिए पीएम मोदी से तुरंत 500 करोड़ रुपये की सहायता की मांग की।

आपदा प्रभावित जिलों में सैकड़ों गांवों के पुनर्वास के मुद्दे को उठाते हुए हरीश रावत ने कहा कि भूस्खलन संभावित क्षेत्र में करीब 350 गांव हैं। उन्होंने कहा कि इस कार्य को पूरा करने के लिए वृहद् प्रयास किए जाने की जरूरत है, जिसमें दस हजार करोड़ रुपये खर्च होंगे।