रियो ओलंपिक की संभावनाओं को चोट, पहलवान नरसिंह डोप टेस्ट में हुए फेल

भारत के पहलवान नरसिंह पंचम यादव डोप टेस्ट में फेल हो गए हैं। उन पर प्रतिबंधित दवा ‘स्टेरॉयड’ के सेवन का आरोप लगा है। इस कारण भारतीय कुश्ती महासंघ (डब्ल्यूएफआई) ने नरसिंह के रियो ओलंपिक में हिस्सा लेने पर फिलहाल रोक लगा दी है।

खेल मंत्रालय ने इस बात की पुष्टि की है कि एक पहलवान डोप टेस्ट में फेल हो गया है, हालांकि उन्होंने नरसिंह का नाम नहीं लिया। पिछले साल लास वेगास में हुए विश्व चैम्पियनशिप की 74 किलोग्राम भारवर्ग में सिल्वर मेडल जीतकर नरसिंह ने ब्राजील में अगले माह होने वाले ओलंपिक खेलों का टिकट हासिल किया था। वह रियो का टिकट हासिल करने वाले पहले भारतीय बने थे।

राष्ट्रीय डोपिंग रोधी एजेंसी (नाडा) ने पांच जुलाई को नरसिंह का भारतीय खेल प्राधिकरण (साई) के सोनीपत स्थित क्षेत्रीय जांच केंद्र पर आकस्मिक डोप टेस्ट किया था। उनके पहले नमूने की जांच में वह प्रतिबंधित दवा के सेवन के दोषी पाए गए। इसके बाद उन्हें दोबारा जांच के लिए बुलाया गया और दूसरे नमूने की जांच भी पॉजिटिव निकली।

मंत्रालय ने रविवार को कहा, ‘राष्ट्रीय डोपिंग रोधी एजेंसी (नाडा) द्वारा एक पहलवान को डोपिंग का आरोपी पाया गया है। वह डोप टेस्ट में फेल हो गए हैं। नाडा की ओर से इस मामले की सुनवाई के लिए एक डोपिंग रोधी अनुशासनात्मक समिति (एडीडीपी) का गठन किया गया है। इसकी पहली सुनवाई शनिवार को हुई थी, जिसमें नरसिंह को अपने बचाव का अवसर दिया गया था।’

अपने बयान में मंत्रालय ने बताया, ‘सुनवाई के बाद एडीडीपी ने नाडा को आगे की रिपोर्ट देने के लिए कहा। रिपोर्ट मिलने के बाद एडीडीपी आगे की सुनवाई करेगी। एक कानून विशेषज्ञ की अध्यक्षता वाले इस पैनल में डॉक्टर और खेल हस्तियां भी शामिल हैं।’ नरसिंह ने हालांकि दावा किया है कि उन्होंने किसी प्रतिबंधित द्रव्य का सेवन नहीं किया और अपने खिलाफ इसे एक साजिश करार दिया।

नरसिंह ने समाचार चैनल एनडीटीवी से कहा, ‘यह मेरे खिलाफ साजिश है। मुझे पूरा विश्वास है कि सच्चाई सामने आ जाएगी। मैंने कभी कोई प्रतिबंधित द्रव्य नहीं लिया। मुझे पता है कि भारतीय ओलंपिक समिति (आईओए) मेरी मदद करेगी।’

आईओए के अध्यक्ष एन. रामचंद्रन का कहना है कि नरसिंह को इस मामले में पूरी कानूनी प्रक्रिया से गुजरना होगा और किसी भी खराब छवि वाले एथलीट को ओलंपिक में खेलने की इजाजत नहीं दी जाएगी।

चैनल ने रामचंद्रन के हवाले से कहा, ‘अगर कोई एथलीट डोपिंग का दोषी पाया जाता है, तो उसके खिलाफ कानूनी कार्यवाही होगी। आईओए धोखाधड़ी करने वाले किसी एथलीट को ओलंपिक में खेलने की इजाजत नहीं देगा।’

रियो के लिए नरसिंह के साथ ट्रायल के दावे के साथ कोर्ट का रुख करने वाले लंदन ओलंपिक में सिल्वर मेडल जीतने वाले सुशील कुमार ने नरसिंह के डोप टेस्ट में नाकाम होने की आलोचना की है।

सुशील ने अपने इंस्टाग्राम एकाउंट पर लिखा है, ‘सम्मान हासिल किया जाता है। इसकी मांग नहीं की जाती। सम्मान उन्हीं को मिलता है जो इसे जीतते हैं। भीख मांगने से सम्मान नहीं मिलती। जय हिंद।’

A photo posted by Sushil Kumar (@wrestlersushil) on

सुशील के कोच सतपाल ने नरसिंह के डोप टेस्ट में नाकाम होने पर खेद जताया है। सतपाल का कहना है कि नरसिंह के रियो नहीं जाने से भारत के पदक जीतने की सम्भावना को झटका लगेगा।

सतपाल ने कहा, ‘यह निराशाजनक खबर है। रियो ओलंपिक में अब सिर्फ 10-12 दिन रह गए हैं। इससे हमारे पदक जीतने की सम्भावना को झटका लगेगा। मैं इस खबर से दुखी हूं।’