दो साल देरी से आखिरकार देहरादून को मिल गया अपना पहला फ्लाईओवर

अस्थायी राजधानी देहरादून के लोगों को लंबे समय से शहर के जिस पहले फ्लाईओवर का इंतजार था, वह आखिरकर सोमवार को शुरू हो गया। देहरादून वासियों को आखिरकार अपना पहला फ्लाईओवर मिल ही गया। देहरादून के बल्लीवाला रोड पर मुख्यमंत्री हरीश रावत ने नए फ्लाईओवर का उद्घाटन किया।

सरकारी लेट-लतीफी का पर्याय बन चुके इस फ्लाईओवर ने सरकार को उसकी कार्यशैली का आईना भी दिखा दिया है। इस फ्लाईओवर को पूरा करने के लिए साल 2014 आखिर तक का समय था, लेकिन जनता को इसकी सुविधा दो साल बाद 25 जुलाई 2016 से मिलनी शुरू हुई है।

फ्लाईओवर का उद्घाटन करने के साथ ही मुख्यमंत्री ने इसे श्रीदेव सुमन सेतु नाम दिया है। दरअसल, सोमवार को अमर शहीद श्रीदेव सुमन का बलिदान दिवस मनाया गया, लिहाजा इस सेतु को उन्ही के नाम किया गया है।

मीडिया से बात करते हुए मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा कि जल्द ही अक्टूबर तक राजधानी के लोगों को दो और फ्लाईओवर मिल जाएंगे। असल, में फ्लाईओवर देहरादून की जरूरत बन चुके हैं। देहरादून में बढ़ती भी़ड और ट्रैफिक दोनों बेकाबू होते जा रहे हैं। लिहाजा जाम लगना आम बात हो चुकी है।

ऐसे में नए फ्लाईओवर के जरिए जाम के झाम से बचने में भी राहत मिलेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि आने वाले सालों में सरकार जनता के लिए छह और नए फ्लाईओवर का निर्माण कराएगी।