NEET परीक्षा पास कराने आये गिरोह को पुलिस ने रामनगर-हल्द्वानी से दबोचा

नीट परीक्षा शुरू होने से कुछ देर पहले पुलिस ने पेपर में पास कराने वाले अंतर्राज्जीय गिरोह का भंडाभोड़ किया। रामनगर एवं हल्द्वानी में पांच युवकों को पकड़ा। आरोपियों के पास से लाखों के चेक, नकदी और मोबाइल में आनसर सीट मिली है। 50 युवाओं को आरोपियों ने पास कराने का ठेका लिया था।

एसएसपी स्वीटी अग्रवाल ने बताया कि रविवार को नीट के लिए हल्द्वानी के सात केन्द्रों में परीक्षा हुई। पुलिस को सूचना मिली कि कुछ दिल्ली एवं बिहार के युवा पेपर लीक कराने के लिए हल्द्वानी एवं रामनगर में पांच दिन पहले से पहुंचे हैं। पड़ताल की गई इसकी पुष्टी हो गई। करीब एक बजे पुलिस ने रामनगर के रिजार्ट में छापेमारी की। पता चला कि आरोपी संजय कुमार पुत्र राम लखन निवासी शेखुपरा बाजार जिला शेखपुरा बिहार, निशात अहमद नियाजी पुत्र निजाय अहमद निवासी शाहजनाबाद सेक्टर 11 न्यू दिल्ली, अजय कुमार सिन्हा पुत्र रामाश्रम सिन्हा निवासी ग्राम मौडीहा थाना नौखा जिला राहेताश बिहार को पुलिस ने 42 विद्यार्थियों को पेपर साल्व कराते हुए पकड़ा।

एसएसपी के अनुसार आरोपियो ने छात्रों से परीक्षा में पास कराने की गारंटी ली थी। पकड़े गए आरोपियों के निशानदेही पर पुलिस ने सिंधी चौराहा हल्द्वानी के एक होटल से आरोपी विकास कुमार निवासी छपरा मसरा बिहार, दिनेश प्रसाद निवासी भागवतनगर पटना को गिरफ्तार किया है। सभी आरोपियों के खिलाफ पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया है।

पुलिस के मुताबिक आरोपियों के मोबाइल से जो आनसर सीट मिली एवं जो प्रश्न पत्र वह छात्रों को साल्व करा रहे थे, वह एग्जाम में आये प्रश्न पत्र से मैच नहीं हुआ। सीओ स्वतंत्र कुमार ने यह जानकारी दी। पुलिस के मुताबिक नीट शुरू होने से पहले दो संदिग्ध दिल्ली में भी पकड़े गए। उनके पास से भी पुलिस को मोबाइल में आनसर सीट मिली है।

हल्द्वानी पुलिस के मुताबिक पकड़े गए आरोपी बैंक, पीओ, कर्मचारी चयन आयोग, मेडिकल की परीक्षाओं के पेपर पांच साल से लीक कर रहे थे। पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि कई बार उनके प्रश्न सही भी होते थे।