दिनेश मानसेरा द्वारा लिखित पुस्तक ‘दाज्यू बोले’ का विमोचन

वरिष्ठ पत्रकार दिनेश मानसेरा द्वारा लिखित पुस्तक दाज्यू बोले का विमोचन वित्त मंत्री डा0 श्रीमती इन्दिरा हृदयेश तथा अन्य विशिष्टजनों द्वारा किया गया। स्थानीय होटल में आयोजित समारोह में मानसेरा द्वारा निर्मित डाक्यूमैंट्री मैं गौला हूँ का प्रदर्शन भी किया गया। कार्यक्रम में मौजूद लोगों द्वारा श्री मानसेरा की पुस्तक एवं फिल्म की प्रशन्सा की।

अपने सम्बोधन में डा0 हृदयेश ने कहा कि पुस्तकें जहां ज्ञान का भण्डार है वही वे हमारे सुख-दुख की साथी भी है।पुस्तकों मे संरक्षित ज्ञान रूपी खजाना हमें जानकारी के साथ ही मानसिक शान्ति एवं विशेष अनुभूति प्रदान करता है। उन्होने पुस्तक के लेखक दिनेश मानसेरा को शुभकामनाये देते हुये उनके प्रयास की प्रशन्सा करते हुये कहा कि यह पुस्तक निश्चय ही समाज को नयी दिशा प्रदान करेगी तथा लोगो के लिए उपयोगी होगी। पुस्तकों के माध्यम से जहाँ हमारे मस्तिष्क का विकास होता है, वहीं सामाजिक जीवन में जीने की कला भी सिखाती है। पुस्तकों के माध्यम से लेखक अपने पुस्तकीय एवं सामाजिक जीवन के ज्ञान व अनुभवों को प्रस्तुत करता है, जो हमे सुखी, समृद्ध एवं समाजिक जीवन जीने की प्रेरणा देते हैं।

श्रीमती हृदयेश ने कहा कि गरीब लोगों की रोजी रोटी का सहारा गौला नदी के इतिहास एवं उसकी उपयोगिता पर जो फिल्म मानसेरा द्वारा निर्मित की गयी है वह मील का पत्थर है। उन्होनें कहा कि मीडिया के लोगों को पत्रकारिता के साथ ही जन सरोकारों पर आधारित लघु फिल्मों को निर्माण जनहित में करना चाहिए।

कार्यक्रम में दरकता पहाड विषय पर परिचर्चा का आयोजन भी किया गया। इतिहासकार प्रो0 रावत, लेखक प्रो0 गोविन्द सिंह, पर्यावरणविद् सच्चिदानन्द भारती, एनडीटीवी के एडिटर रविश कुमार, न्यूज एडिटर इण्डिया टीवी अजीत अंजुम, पत्रकार एवं कथाकार गीताश्री, एडिटर सुशील बहुगुणा ने विचार व्यक्त किये। संचालन सीनियर एडिटर हृदयेश जोशी द्वारा किया गया।
कार्यक्रम में जिलाधिकारी दीपक रावत, डीआईजी पीएस सैलाल, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक स्वीटी अग्रवाल, वन संरक्षक डा0 पराग मधुकर धकातै, प्रभागीय वनाधिकारी तेजस्वनी पाटिल धकातै, सिटी मजिस्ट्रेट हरबीर सिंह, उप जिलाधिकारी पंकज उपाध्याय के अलावा बडी संख्या में मीडिया के लोग उपस्थित थे।