धानाचूली: नशे में धुत्त पढ़ाते हुए आदर्श विद्यालय का अध्यापक धरा गया

शिक्षा की गुणवत्ता व शिक्षा कार्यो की जांच करने मुख्य विकास अधिकारी ललित मोहन रयाल ने राजकीय इन्टर कालेज आदर्श विद्यालय धानाचूली जा पहुचे। श्री रयाल ने विद्यालय के सहायक अध्यापक सामाजिक विज्ञान विनोद कुमार को शराब के नशे में धुत पाया। अध्यापक द्वारा नशे की हालत में छात्र-छात्राओं को पढाया जा रहा था।

अध्यापक की यह दुर्दशा देखकर बच्चे हस रहे थे। मुख्य विकास अधिकारी के छापे से विद्यालय में हडकम्प मच गया, मौके पर ही शराबी अध्यापक को मुख्य विकास अधिकारी द्वारा पकडा गया, और उसका मेडिकल जांच व कानूनी कार्यवाही के लिए उपजिलाधिकारी धारी राकेश तिवारी को सौंप दिया।

श्री रयाल ने कहा कि डियूटी के दौरान शराब पीना अनुसानहीनता एवं कर्मचारी आचरण नियमावली के विरू़द्व है। उन्होने बताया कि सम्बन्धित अध्यापक की जांच रिर्पोट जिलाधिकारी के साथ ही अपर निदेशक शिक्षा कुमायू को भी भेजी जायेगी। उन्होने कहा शराबी अध्यापक का निलंबन तय है। मुख्य विकास अधिकारी द्वारा कक्ष-कक्षाओ में जाकर शिक्षा की गुणवत्ता की परख करने के लिए विद्यार्थीयों से सवालात भी किये। उन्होने अध्यापकांे से कमजोर बच्चों की सूची बनाकर विशेष ध्यान देने के आदेश दिये। श्री रयाल द्वारा राजकीय प्राथमिक आदर्श विद्यालय मेहरागांव का निरीक्षण कर शिक्षा की गुणवत्ता को परखा।