दिल्ली-काठमांडू डीटीसी बस सेवा: एनजीटी ने बस के रजिस्ट्रेशन की दी इजाजत

राष्ट्रीय हरित अधिकरण (एनजीटी) ने नेपाल की यात्रा करने वाले यात्रियों को राहत देते हुए अधिकारियों को दिल्ली परिवहन निगम (डीटीसी) की ओर से संचालित बस को पंजीकृत करने का निर्देश दिया है जो कि दिल्ली-काठमांडू पर चलने के लिए निर्धारित है।

एनजीटी अध्यक्ष न्यायमूर्ति स्वतंत्र कुमार के नेतृत्व वाली एक पीठ ने यद्यपि स्पष्ट किया कि पंजीकृत बस को शहर में चलने की इजाजत नहीं होगी और वह अपने निर्दिष्ट स्थान से काठमांडू तक ही चल सकती है।

पीठ ने कहा, ‘अर्जी को इस सीमा तक इजाजत दी जाती है कि वाहन को दिल्ली के आरटीओ कार्यालय के साथ पंजीकृत करने की इजाजत होगी लेकिन यह बस राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली क्षेत्र में नहीं चलेगी बल्कि निर्दिष्ट स्थान से काठमांडू तक चलेगी।’ यह आदेश डीटीसी की ओर से दायर एक अर्जी पर आया।

डीटीसी ने यह अर्जी तब दायर की जब दिल्ली राज्य परिवहन प्राधिकरण ने एनजीटी के 11 दिसम्बर 2015 के आदेश के मद्देनजर एक नयी वोल्वो डीजल बस को पंजीकृत करने से इनकार कर दिया था। एनजीटी ने अपने उस आदेश में कहा था कि राजधानी में नये डीजल चालित वाहन पंजीकृत नहीं होंगे।

भारत और नेपाल के बीच आर्थिक संबंधों को मजबूत करने और भारत एवं नेपाल में महत्वपूर्ण स्थलों के बीच यात्रियों के आवागमन को सुविधाजनक बनाने के लिए डीटीसी ने दिल्ली-काठमांडू बस सेवा को 25 नवम्बर 2014 को शुरू की थी।