उत्तराखंड विधानसभा में हंगामा, कुंजवाल हटे, विधायक नवप्रभात को अध्यक्ष की कुर्सी

साभार - लाइवहिंदुस्तान

उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष गोविंद सिंह कुंजवाल खुद के खिलाफ विपक्ष के अविश्वास प्रस्ताव पर नैतिकता का हवाला देकर कुर्सी से हटे और पूर्व मंत्री और कांग्रेस नेता नव प्रभात को अध्यक्ष की कुर्सी पर बैठाया। इस समय नव प्रभात कर रहे हैं विधानसभा की अध्यक्षता। विधानसभा अध्यक्ष और उपाध्यक्ष खुद मंत्रियों के बीच बैठे हैं।

विधानसभा शुरू होने से पहले भाजपा विधायक गैलरी में धरने पर बैठ गये। भाजपा विधायकों ने अपने क्षेत्र में विकास कार्य ठप करने, सरकारी उपेक्षा के खिलाफ की जमकर नारेबाजी की। विधायक पुष्कर धामी ने खटीमा को आपदा क्षेत्र घोषित करने की मांग की।

अध्यक्ष ने कहा की विपक्ष के अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा तक वो पीठ की अध्यक्षता नहीं करेंगे। भाजपा का हंगामा। विधायक मदन कौशिक ने कहा की अध्यक्ष की कुर्सी कौन बैठेगा, ये तय करने का अधिकार सिर्फ राज्यपाल को ही है। विपक्ष वेल में धरने पर बैठा।

विपक्ष के विधायक संजय गुप्ता, गणेश जोशी, यतींद्रानंद अध्यक्ष् के पास वाली कुर्सियों पर चढ़े। माइक तोडा, खींचतान, सुरक्षा कर्मियों के साथ खींचतान।

विधायक संजय गुप्ता ने कुर्सी पटकी। भाजपा नेता प्रतिपक्ष अजय भट भी कुर्सी पर चढ़े। अध्यक्ष ने अविश्वास प्रस्ताव पर वोटिंग कराने की प्रक्रिया शुरू। हंगामे के कारण प्रक्रिया अधर में लटकी हुई है। हंगामा जारी। सीएम हरीश रावत ने कहा की अध्यक्ष ने उच्च परम्परा का पालन किया है।सदन के कुछ सदस्यों ने उन पर अविश्वास जताया। इसी पर अध्यक्ष ने पहले विश्वास प्राप्त करने के लिए कुर्सी छोड़ी है। भाजपा नेता अजय भट्ट ने इसे लोकतान्त्रिक व्यवस्था की हत्या करार दिया। कहा सिर्फ सत्ता पक्ष् को अध्यक्ष् तय करने का अधिकार नहीं है।