गंगोत्री हाईवे पर बोल्डर आने से फंसे सैंकड़ों कांवड़िए, फिर बारिश का अनुमान

चार धाम यात्रा मार्गों में बद्रीनाथ हाईवे पर यातायात बहाल कर दिया गया है। लेकिन गंगोत्री, यमुनोत्री और केदारनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग अब भी नहीं खोले जा सके हैं।

गंगोत्री हाईवे पर भटवाड़ी व गंगनानी के बीच मलबा आने से रास्ता करीब चार दिन से बंद है। इस कारण 80 से अधिक डाक कांवड़ियों के वाहन फंसे हुए हैं। साथ ही चार सौ कांवड़िये वहां फंसे हुए हैं, जिन्हें रेस्क्यू कर निकाला जा रहा है।

बीआरओ के जवान हाईवे खोलने में जुटे हुए हैं। पुलिस ने गंगोत्री जाने वाले वाहनों को भटवाड़ी में रोका हुआ है। हालांकि, पैदल डाक कांवड़ियों को रेस्क्यू कर निकाला जा रहा है।

गौरतलब है कि सोमवार देर शाम उत्तरकाशी से 60 किलोमीटर दूर गंगोत्री हाईवे पर भटवाड़ी और गंगनानी के बीच पहाड़ दरकने से भारी बोल्डर आ गए। इससे गंगोत्री से जल लेकर लौट रहे कांवड़ यात्री वहां फंस गए। पुलिस ने इन कांवड़ियों को रस्सियों के सहारे निकाला।

मंगलवार सुबह से सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) के जवानों ने मलबा हटाना शुरू किया, लेकिन मलबा हटाने में खासी दिक्कतें आ रही हैं। बीआरओ के अनुसार हाईवे का 30 मीटर हिस्सा बोल्डर से ढका हुआ है। इसके अलावा केदारनाथ मार्ग सोनप्रयाग और गौरीकुंड के बीच बंद है।

मौसम विभाग के पूर्वानुमान के अनुसार अगले 24 घंटे में मौसम में किसी तरह का परिवर्तन की उम्मीद नहीं है। हालांकि, राज्य में कहीं-कहीं हल्की बारिश हो सकती है। मनेरी के थानाध्यक्ष दीप सिंह ने बताया कि हाईवे को खोलने की कोशिशें की जा रही हैं।