बार-बार मर्यादा क्यों भूल जाते हैं नेता? अब मायावती के खिलाफ आई अभद्र टिप्पणी

बीजेपी नेता दयाशंकर सिंह ने उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और बीएसपी सुप्रीमो मायावती के बारे में बेहद शर्मनाक बयान दिया है। उन्होंने अपने बयान में मायावती की तुलना ‘वेश्या’ से की है।

dayashankar-singh-bjp

ऐसा पहली बार नहीं हुआ जब नेताओं ने महिलीओं के बारे में विवादित बयान दिए है। ऐसे मामले अक्सर सामने आते रहे हैं।

ali-anwar

हाल ही में स्मृत‌ि ईरानी को कपड़ा मंत्रालय मिलने के बाद जेडीयू नेता और राज्यसभा सांसद अनवर अली ने विवादित बयान दिया था। उन्होंने कहा था, स्मृत‌ि ईरानी को कपड़ा मंत्रालय दिया गया है। ये बुरा मंत्रालय नहीं, खराब मंत्रालय नहीं है। स्मृत‌ि को तन ढकने वाला मंत्रालय दिया गया है। अनवर अली के इस बयान के बाद उनकी जबरदस्त आलोचना हुई थी।

sharad-yadav

मार्च 2015 में जेडीयू नेता शरद यादव ने दक्षिण भारतीय महिलाओं के बारे में एक बयान दिया था, जिस पर काफी विवाद हुआ था। उन्होंने राज्यसभा में बीमा विधेयक के दौरान कहा था कि दक्षिण भारत की महिलाओं का शरीर भी उतना ही सुंदर होता है, जितनी वह सुंदर होती हैं। वे हमारे क्षेत्र में सुंदर नहीं मानी जाती, जबक‌ि उन्हें नाचना भी आता है। ये बयान देने के बाद उनकी काफी आलोचना हुई थी, लेकिन शरद यादव ने अपनी गलती नहीं मानी बल्क‌ि कहा क‌ि वह महिलाओं की तारीफ कर रहे थे।

mulayam-singh_6

उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद में एक रैली के दौरान सपा सुप्रीमो मुलायम स‌िंह यादव के बयान पर भी काफी बवाल हुआ था। उन्होंने कहा था, जब लड़के और लड़कियों में कोई विवाद होता है तो लड़की बयान देती है कि लड़के ने मेरा बलात्कार किया। इसके बाद बेचारे लड़के को फांसी की सज़ा सुना दी जाती है। बलात्कार के लिए फांसी की सज़ा अनुचित है। उन्होंने कहा, लड़के हैं गलती हो ही जाती है।

sakshi-maharaj

बीजेपी सांसद साक्षी महाराज ने मेरठ में एक रैली को संबोधित करते हुए कहा था कि हिंदुत्व की रक्षा के लिए हर महिला को कम से कम चार बच्चे पैदा करने चाहिए।