समूचे उत्तराखंड में भारी बारिश, 24 घंटे में 318 मिमी बारिश से दहशत में रुड़की

16 जून 2013 की उस दहशत वाली रात की यादें अबकी बार रुड़की में ताजा हो गई। पिछले 36 घंटे में रुड़की में केदारनाथ आपदा जैसी बारिश हो गई।

शहर की सड़कें नालियों में तब्दील हो गईं और घरों में पानी घुस गया है। मूसलाधार बारिश से लोग दहशत में हैं। वहीं, राज्य में भी सोमवार देर शाम तक 24 घंटे में सामान्य से 326 प्रतिशत ज्यादा बारिश रिकॉर्ड की गई।

राज्यभर में मौसम विभाग का पूर्वानुमान सटीक साबित हुआ। बीते 48 घंटे से लगातार सूबे के कई हिस्सों में भारी से भारी बारिश का सिलसिला जारी रहा है।

पहाड़ों के रास्ते बंद हो गए हैं और मैदानी इलाकों में पानी ही पानी नजर आ रहा है। रुड़की में सोमवार शाम तक 24 घंटे में सर्वाधिक 318 मिमी बारिश रिकॉर्ड की गई। जबकि, 2013 में केदारनाथ आपदा में 24 घंटे में 325 मिमी बारिश हुई थी।

मौसम विभाग के आंकड़ों के मुताबिक 15 जून 2013 की सुबह पांच बजे से 16 जून 2013 की सुबह पांच बजे तक केदारनाथ में चौराबाड़ी ग्लेशियर पर 210 मिमी बारिश हुई थी। 16 जून को सुबह पांच बजे से शाम पांच बजे तक 115 मिमी बारिश हुई। कुल मिलाकर 24 घंटे में 325 मिमी बारिश हुई थी।

मौसम विभाग के मुताबिक रुड़की में 16 जुलाई 2016 की सुबह 8:30 बजे से 17 जुलाई की सुबह 8:30 बजे तक 318 मिमी बारिश हुई।

भारी से भारी बारिश की वजह से रुड़की की सड़कों पर नदियों जैसे हालात बन गए, घरों, दुकानों में पानी भर आया। इसके बाद सर्वाधिक बारिश हल्द्वानी में 214 मिमी रिकॉर्ड की गई है। हरिद्वार जिले का सामान्य बारिश 10.9 है, जबकि कुल बारिश 164 प्रतिशत अधिक हुई है।

24 घंटे के आंकड़ों पर गौर करें तो पूरे उत्तराखंड में भारी बारिश हुई है। 24 घंटे का सामान्य आंकड़ा 14.2 मिमी है, जबकि राज्य में 60.2 मिमी बारिश हुई है। यानी सामान्य से 326 प्रतिशत ज्यादा बारिश।

जानें कहां हुई कितनी बारिश
रुड़की : 318
हल्द्वानी : 214
नैनीताल : 154
बागेश्वर : 120
सोमेश्वर : 105
अल्मोड़ा : 103.2
हरिद्वार : 101.8
कपकोट : 82.5
गरुड़ : 80
पिथौरागढ़ : 78.2
गैरसैंण : 77
बड़कोट : 75
देहरादून : 74.5
चंपावत : 70.4
धारचूला : 70
जौलीग्रांट : 64.4
उत्तरकाशी : 58.1
टिहरी : 48.2
ऊखीमठ : 45
पंतनगर : 34.4
चमोली : 32
देवप्रयाग : 30.4
कोटद्वार : 30.3
रुद्रप्रयाग : 23.8

(आंकड़े : 16 जुलाई सुबह 8:30 से 17 जुलाई सुबह 8:30 बजे तक)