नैनीताल : स्टिंग मामले में हाईकोर्ट में सुनवाई आज, सीएम हरीश रावत को मिलेगी राहत?

नैनीताल स्थित उत्तराखंड हाईकोर्ट में मंगलवार का दिन बेहद अहम होने जा रहा है। ‘स्टिंग ऑपरेशन’ मामले में मुख्यमंत्री हरीश रावत की ओर से दाखिल याचिका पर मंगलवार को सुनवाई होनी है।

दूसरी ओर ‘स्टिंग’ मामले की शिकायत करने वाले हरक सिंह रावत की ओर से एक नई याचिका भी हाईकोर्ट में दाखिल की गई है, इस पर भी मंगलवार को ही सुनवाई होनी है। हाईकोर्ट में हरक सिंह की याचिका पर जस्टिस सुधांशु धूलिया और हरीश रावत की याचिका पर यूसी ध्यानी की कोर्ट में सुनवाई होगी।

उत्तराखंड के राजनीतिक हल्कों में मंगलवार का दिन बेहद अहम रहने वाला है। विधायकों की खरीद-फरोख्त से जुड़े ‘स्टिंग’ मामले में मुख्यमन्त्री हरीश रावत की ओर दाखिल याचिका पर हाईकोर्ट की एकलपीठ में सुनवाई होनी है। पिछली सुनवाई के दौरान हाईकोर्ट ने शिकायतकर्ता हरक सिंह रावत को भी नोटिस जारी कर जवाब मांगा था।

इसके साथ ही याचिकाकर्ता ने केन्द्र को पार्टी बनाने के लिए संशोधन प्रार्थनापत्र भी दाखिल किया था। सुनवाई के दौरान सीबीआई की ओर से तर्क दिया गया था कि सीबीआई ने केन्द्र की अधिसूचना के आधार पर जांच शुरू की है, जबकि केन्द्र तो याचिका में पार्टी ही नहीं है।

अब मंगलवार को जस्टिस यूसी ध्यानी की एकलपीठ में हरीश चन्द्र सिंह रावत की याचिका पर सुनवाई होगी। माना जा रहा है कि दोपहर बारह बजे के बाद या लंच के बाद इस मामले पर सुनवाई हो सकती है। उधर एक नया घटनाक्रम सोमवार को सामने आया है।

हरक सिंह रावत की ओर से एक याचिका हाईकोर्ट में दाखिल की गई है। इस याचिका में मांग की गई है कि सीबीआई स्टिंग मामले की जांच के लिए सक्षम एजेंसी है। 15 मई 2016 को वित्त मन्त्री इंदिरा हृदयेश की अध्यक्षता में कैबिनेट बैठक में लिए गए फैसलों को भी रद्द करने की मांग की गई है, जिनमें सीबीआई जांच की संस्तुति वापस लेने और मामले की जांच एसआईटी से कराने का फैसला लिया गया था।

बहरहाल राज्य की राजनीति में एक बार फिर हाईकोर्ट निर्णायक की भूमिका में है। देखना यह है कि हाईकोर्ट की एकलपीठ क्या फैसला सुनाती है।