उत्तराखंड में बारिश से कुछ राहत, दुर्घटनाओं में मरने वालों की संख्या 16 हुई

उत्तराखंड के अधिकांश हिस्सों में पिछले कुछ दिनों से लगातार हो रही भारी बारिश में आज दोपहर बाद कुछ कमी आयी लेकिन वर्षा के कारण होने वाली दुर्घटनाओं का सिलसिला आज भी जारी रहा ।

उत्तरकाशी जिले में पहाड़ से गिरे पत्थरों की चपेट में आकर एक कार के भागीरथी नदी में गिर जाने से एक व्यक्ति की मौत हो गयी । वहीं, हरिद्वार जिले के रूड़की में एक बच्चा पानी के तेज बहाव में बह गया ।

पिछले चार दिन में लगातार हुई भारी बारिश के चलते प्रदेश में अलग-अलग घटनाओं में अब तक 16 व्यक्तियों की मौत हो चुकी है और कई अन्य घायल हुए हैं ।

धरांसू के पुलिस थानाध्यक्ष रविंद्र यादव ने बताया कि सुबह चिन्यालीसौड से उत्तरकाशी जा रही एक कार पर गंगोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग पर धरासू बैण्ड के पास पहाड़ से पत्थर गिर पड़े जिससे वह अनियन्त्रित होकर उफनाई भागीरथी नदी मे जा गिरी ।

कार में सवार सहदेव चोहरी (31) की घटनास्थल पर ही मौत हो गयी । चोहरी पंजाब नेशनल बैंक में कार्यरत था।

एक अन्य घटना में, हरिद्वार जिले के रूड़की में बढेडी राजपुताना में एक बच्चे की पानी के तेज बहाव में बहने से मौत हो गयी ।

कल भी टिहरी जिले में रिषिकेश-गंगोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग पर नरेंद्रनगर बाइपास के पास पहाड़ से भारी भूस्खलन होने से रिषिकेश से चंबा की ओर जा रही एक कार मलबे में दब गई थी जिसमें कार सवार चारों व्यक्तियों की मौके पर ही मौत हो गयी थी ।

हरिद्वार जिले के जमालपुर खुर्द गांव में कल पानी के तेज बहाव में बहने से दो व्यक्तियों की मौत हो गयी । इससे पहले, पौड़ी जिले के श्रीनगर में बारिश के चलते हुई एक कार दुर्घटना में तीन व्यक्तियों की मौत हो गयी थी ।

उत्तरकाशी जिले के बडकोट क्षेत्र में नन्द गांव में गौशाला पर पेड़ गिरने से उसके नीचे मौजूद दो व्यक्तियों की मृत्यु हो गयी।

नैनीताल जिले के हल्द्वानी में तेज बारिश के चलते उफनाई एक बरसाती नदी में एक बस के बह जाने से एक व्यक्ति की मृत्यु हो गयी ।

जारीउत्तराखंड राज्य आपातकालीन केंद्र से मिली सूचना के अनुसार पिछले 24 घंटों में राजधानी देहरादून सहित अधिकांश हिस्सों में भारी बारिश दर्ज की गयी । इस दौरान प्रदेश में सर्वाधिक 160 मिलीमीटर बारिश हल्द्वानी में रिकॉर्ड की गयी जबकि नैनीताल में 109 मिलीमीटर, रिषिकेश में 107.6 मिलीमीटर, टिहरी में 107 मिलीमीटर, धारी में 97 मिलीमीटर, नरेंद्रनगर में 90 मिलीमीटर, धनोल्टी में 70.22 मिलीमीटर, देहरादून में 69.2 मिलीमीटर, रानीखेत में 63.4 मिलीमीटर और सोमेश्वर में 58 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गयी ।

हालांकि, यहां मौसम केंद्र के निदेशक डॉ. विक्रम सिंह ने बताया कि आज से शुरू हुआ बारिश में कुछ कमी का दौर अगले तीन-चार दिन तक जारी रहेगा ।

उन्होंने बताया कि इस दौरान पूरे प्रदेश में भारी बारिश से राहत बनी रहेगी ।

पिछले कुछ दिनों में लगातार हुई बारिश के कारण प्रदेश में गंगा, यमुना और उनकी सहायक नदियों सहित अन्य बरसाती नदियां भी उफान पर आ गयी हैं और खतरे के निशान के नजदीक बह रही हैं ।

नदियों के बढ़े जलस्तर के मद्देनजर हरिद्वार के लक्सर और खानपुर क्षेत्र के गंगातटीय गांवों में बाढ चौकियों को सक्रिय कर दिया गया है और नदी किनारे लगातार गश्त की जा रही है ।

छह पुलिस टुकड़ियों को अलर्ट पर रखा गया है और पांच राफ्ट बोटों को किसी भी संभावित अप्रिय स्थिति से निपटने के लिये तैनात कर दिया गया है ।

बारिश के कारण पहाड़ों से मलबा आने के कारण प्रदेश में राष्ट्रीय राजमार्गों सहित कई मार्ग यातायात के लिये बंद हैं जिन्हें खोलने का प्रयास किया जा रहा है ।

रिषिकेश -बदरीनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 58 लामबगड़ और रडांगबैंड के पास अवरूद्घ है जबकि रिषिकेश-केदारनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 109 सोनप्रयाग और गौरीकुंड के बीच पार्किंग और मुनकुटिया के पास बंद है।