‘केंद्र सरकार ने नहीं, उनके अपने विधायकों ने गिराई उत्तराखंड और अरुणाचल की कांग्रेस सरकारें’

केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्यमंत्री कृष्णपाल गुर्जर ने कहा है कि राज्यों में कांग्रेस की सरकारों को केंद्र सरकार ने नहीं गिराया बल्कि उनके विधायकों ने ही अपनी सरकार में अविश्वास जताया था।

अरुणाचल प्रदेश में कांग्रेस के पक्ष में आए सुप्रीम कोर्ट के निर्णय पर उन्होंने कहा कि कोर्ट का आदेश सर्वोपरि है। राज्य में कांग्रेस की सरकार को उन्होंने बेईमान और भ्रष्ट करार दिया।

शनिवार को केंद्रीय राज्यमंत्री की लंढौरा में आयोजित जनसभा से पूर्व रुड़की स्थित खानपुर के पूर्व विधायक कुंवर प्रणव सिंह के कार्यालय में प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने उत्तराखंड के बाद अरुणाचल प्रदेश में सरकारों को बर्खास्त करने पर केंद्र का बचाव किया।

उन्होंने कहा कि दोनों राज्यों के विधायकों ने वहां की सरकारों पर अविश्वास जताया था। केंद्र में बीजेपी के दो साल के कार्यकाल में सरकार पर कोई भी भ्रष्टाचार का आरोप नहीं लगा, बल्कि कार्यों में पारदर्शिता की व्यवस्था निर्मित की गई है। उन्होंने दावा किया कि दो साल में आर्थिक विकास दर बढ़ी है, जबकि महंगाई दर 10 से घटकर 4.5 प्रतिशत हो गई है।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में विश्व में देश की प्रतिष्ठा बढ़ी है। यह पहली बार है कि देश में यूरिया खाद की कालाबाजारी बंद हुई है। किसी भी राज्य में इस समय खाद की किल्लत नहीं है।

उन्होंने प्रदेश सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि खानपुर में तमाम विकास योजनाओं को जानबूझकर मुख्यमंत्री हरीश रावत ने रोक दिया है। इस मौके पर पूर्व विधायक हरक सिंह रावत, सुबोध उनियाल, कुंवर प्रणव सिंह चैंपियन और प्रदीप बत्रा आदि मौजूद रहे।