नेपाल की अस्थिरता में भारत की कोई भूमिका नहीं : सरकार

सरकार के उच्च पदस्थ सूत्रों ने बताया कि ओली की समस्याएं उनकी खुद की बनायी हुई हैं और भारत दूसरे देश के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप करने में यकीन नहीं रखता। यह कह कर भारत ने आज इस खबर को खारिज कर दिया कि वह नेपाल के प्रधानमंत्री के पी शर्मा ओली की सरकार को अस्थिर करने की किसी कोशिश में शामिल है, जिनकी सरकार संसद में अविश्वास प्रस्ताव का सामना कर रही है।

ओली सरकार प्रचंड की अगुवाई वाली सीपीएन :एम: पार्टी समेत कई राजनीतिक दलों द्वारा समर्थन वापसी की वजह से अल्पमत में आ गयी है।

सूत्रों ने कहा, ‘‘भारत ने नेपाल को अस्थिर करने के लिए कुछ नहीं किया। यह नेपाल की अंदरूनी समस्याएं हैं। ’’ उन्होंने कहा कि यह सारी चीजें शासन के मुद्दों की वजह से है और सरकार कठिन दौर से गुजर रही है।

सूत्रों ने सरकार का पक्ष काठमांडो से कल आयी इस रिपोर्ट के आलोक में रखा है कि ओली ने भारत पर करारा प्रहार किया है और परोक्ष रूप से उन्होंने उन्हें अपदस्थ करने में भारत के शामिल होने की शंका प्रकट की है।