कांग्रेस ने आगामी उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के तहत जिन चार लोगों को प्रदेश का उपाध्‍यक्ष बनाया है, उनमें 45-वर्षीय विवादास्‍पद नेता इमरान मसूद भी हैं। मसूद ने 2014 के लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान तब बीजेपी की तरफ से पीएम पद के उम्‍मीदवार ‘नरेंद्र मोदी के बोटी-बोटी करने’ संबंधी विवादित बयान दिया था। मार्च, 2014 में इस भड़काऊ भाषण देने के लिए उनको जेल भी भेजा गया था।

इमरान मसूद ने पिछला लोकसभा चुनाव भी लड़ा था, लेकिन हार गए थे। मंगलवार को कांग्रेस के उत्तर प्रदेश प्रभारी गुलाम नबी आजाद ने मसूद का बचाव करते हुए कहा कि बीजेपी अपने भड़काऊ भाषण देने वालों की चिंता करे। मसूद के बयान को गलत तरीके से पेश किया गया था। यही नहीं अपने बयान के लिए उन्‍होंने माफी भी मांग ली थी।

इस पर बीजेपी के संबित पात्रा ने ट्वीट करते हुए कहा, ‘बोटी-बोटी की बात कहने वाले उत्‍तर प्रदेश के इमरान मसूद को पार्टी की प्रदेश कार्यकारिणी का उपाध्‍यक्ष बनाया जाना कांग्रेस की सोच को दर्शाता है।’