जम्मू-कश्मीर सरकार को बर्खास्त करें, उमर अब्दुल्ला और महबूबा को गिरफ्तार करें : वीएचपी

आतंकवादी बुरहान वानी के मारे जाने पर कश्मीर में उत्पन्न स्थिति के बीच विश्व हिन्दू परिषद (वीएचपी) ने सोमवार को महबूबा मुफ्ती सरकार को बर्खास्त करने और जम्मू-कश्मीर में राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग की।

वीएचपी ने महबूबा पर आतंकवादी समर्थक रुख का आरोप लगाते हुए उन्हें गिरफ्तार करने की भी मांग की। बीजेपी के पीडीपी के साथ सरकार बनाने के प्रयोग को विफल करार देते हुए वीएचपी के संयुक्त महासचिव सुरेन्द्र जैन ने महबूबा मुफ्ती पर आतंकवादियों और अलगाववादियों के प्रवक्ता की तरह काम करने का आरोप लगाया।

उन्होंने कहा कि उन्हें और पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला दोनों को उनके आतंकवाद समर्थक भाषण के लिए गिरफ्तार किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘बीजेपी का पीडीपी के साथ सरकार बनाने के प्रयोग विफल हो गया है क्योंकि वे महबूबा मुफ्ती में बदलाव नहीं ला पाए हैं।’

वीएचपी ने सोमवार को कहा कि कश्मीर की स्थिति 1990 के उस दौर के समान है जब आतंकवाद शीर्ष पर था, साथ ही सरकार से पाकिस्तान समर्थित आतंकवादियों को देखते ही गोली मारने सहित अन्य सख्त कदम उठाने की मांग की।

वीएचपी के संयुक्त महासचिव सुरेन्द्र जैन ने कहा, ‘कश्मीर में जो कुछ हो रहा है, वह दुर्भाग्यपूर्ण है। हिजबुल कमांडर वानी के खिलाफ पुलिस की कार्रवाई पर प्रतिक्रिया दुर्भाग्यपूर्ण है। घाटी में वर्तमान स्थिति 1990 के जैसी हो गई है।’

अमरनाथ यात्रा करने वाले श्रद्धालुओं पर हमले का आरोप लगाते हुए विश्व हिन्दू परिषद ने कहा कि यह अस्वीकार्य है और हिन्दुओं पर निशाना साधने के गंभीर परिणाम होंगे।