पिथौरागढ़ जिले में भारतीय सेना की ईको टास्क फोर्स की पहल पर एक ऐसी मिशाल कायम हुई है, जो देखते ही बनती है। यहां 15 हजार विभिन्न संगठनों से जुड़े लोगों ने मात्र 12 घंटों में 12 लाख पौधे लगाने का कीर्तिमान स्थापित किया है। राष्ट्रीय स्तर पर बने इस रिकॉर्ड को उम्मीद जतायी जा रही है कि विश्व पटल पर भी नम्बर वन का खिताब मिलेगा।

उत्तराखंड ही नहीं बल्कि देश के इतिहास में यह पहला मौका है, जब पर्यावरण संरक्षण के लिए इतनी बड़ी तादात में एकमुस्त लोगों ने पहल की है। सेना की पर्यावरण बटालियन की पहल पर पिथौरागढ़ में एक ऐसा इतिहास रचा गया, जिसे निकट भविष्य में तोड़ पाना आसान नजर नहीं आता।

स्कूली बच्चे, सेना, प्रशासन और संगठनों से जुड़े लोगों ने यहां 12 घंटे में 12 लाख से अधिक पौंधे लगाने में कामयाबी पाई है। 130 ईको टास्क फोर्स क चीफ नंदु कुमार का कहना है कि वे विश्व स्तर पर इसे रिकॉर्ड में शामिल करवाने के लिए कोशिश करेंगे।

130 ईको टास्क फोर्स पर्यावरण के क्षेत्र में पहले भी कई कीर्तिमान स्थापित कर चुकी है, लेकिन ये पहला मौका है जब सिविल सोसायटी को गोलबंद कर इतने व्यापक पैमाने पर पौंधे लगाए गए। इस अभियान को अंजाम तक पहुंचान के लिए फोर्स ने लम्बी तैयारियां की थीं।

उत्तराखंड की इसी धरती पर चिपको जैसे आंदोलन भी शुरू हुए थे। चिपको आंदोलन की अलख ने पूरी दुनिया को पर्यावरण बचाने के लिए प्रेरित किया था। आज एक बार फिर पहाड़वासियों ने साबित कर दिया है कि दुनिया को हरा-भरा रखना उनकी रगों में शामिल है। उम्मीद की जानी चाहिए कि ग्लोबल वार्मिंग के इस दौर में पूरी दुनिया इस मुहिम से जरूर कुछ सीख लेगी।