हरिद्वार: 17 जुलाई से होगा कांवड़ यात्रा का आगाज, ये है पूरी खबर

सावन के महीने में शुरू होने वाली उत्तर भारत की सबसे बड़ी धार्मिक यात्रा कांवड़ 17 जुलाई से शुरू  होने जा रही है। अपने आप में अनूठी कांवड़ यात्रा में भोले के करोड़ों भक्त हरिद्वार से गंगाजल लेकर शिवालयों तक पैदल यात्रा करते हैं। भोले के भक्त कांवड़ में गंगाजल भरकर ले जाते हैं और अलग-अलग शिवालयों पर भगवान शिव का जलाभिषेक करते हैं।

कांवड़ यात्रा का समापन सावन की शिवरात्रि यानि 1 अगस्त पर भगवान शिव के जलाभिषेक के साथ होगा। भले ही कांवड़ मेले का विधिवत आगाज 17 जुलाई से होगा, लेकिन हरिद्वार में कांवड़ियों की आमद 10 जुलाई से ही शुरू हो जाएगी। दूरदराज से आए कांवड़िएं 10 जुलाई के बाद गंगाजल भरकर गंतव्य की ओर प्रस्थान करना शुरु कर देंगे।

सबसे ज्यादा कांवड़ बागपत जिले के पुरा महादेव मंदिर पर चढ़ती हैं। हरिद्वार से पुरा महादेव मंदिर तक कांवड़ियों को पहुंचाने के लिए उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश शासन की ओर से इंतजाम किए जाते हैं। हरिद्वार प्रशासन की ओर से दावा किया जा रहा है कि कांवड़ यात्रा शुरु होने से पहले सारे इंतजाम पूरे कर लिए जाएंगे.