गंगा नदी को गंदा करने वालों को जेल भेजने की तैयारी में हैं उमा भारती

हरिद्वार में गुरुवार को ‘नमामि गंगे’ अभियान के तहत केंद्रीय मंत्री उमा भारती और नितिन गड़करी ने 43 परियोजनाओं की शुरुआत की। इस मौके पर उमा भारती ने कहा कि गंगा को गंदा करने वालों को जेल भेजने का प्रावधान किया जा रहा है।

गंगा संरक्षण और जल संसाधन मंत्री उमा भारती ने कहा कि जो ट्रीटेड वाटर, गन्दा पानी या सीवर गंगा में छोड़ेगा उसे जेल भेजने का प्रावधान किया जा रहा है। सभी राज्यों ने गंगा के लिए एक्ट लाने की सहमति दे दी है। उन्होंने कहा कि कच्चा ड्राफ्ट पहले राज्यों को भेजा जाएगा। उसमें जो सुझाव आएंगे वे प्रावधान में जोड़ दिए जाएंगे। उन्होंने कहा कि अगले 45 दिनों में सैकड़ों प्रोजेक्ट गंगोत्री से गंगासागर तक दिखने लगेंगे।

उमा भारती ने जनता से अपील की है कि सरकार जितना काम कर सकती है वह करेगी, लेकिन लाखों साल से गंगा को गंगा उनके भक्तों ने बनाए रखा है। अब गंगा को आगे आप सबने साफ सुथरा बनाए रखना है। उन्होंने अक्टूबर में गंगा किनारे पद यात्रा करने की बात भी कही।

उन्होंने कहा कि पदयात्रा से गंगा घाटों पर रहने वालों को गंगा के प्रति जागरुक किया जाएगा। उमा भारती ने कहा कि पिछली पीढ़ियों का तर्पण और भावी पीढ़ियों को धरोहर देनी है तो गंगा को बचाने में सहयोग करें। नदी और नारी अपना अस्तित्व स्वयं बनाते हैं, इसलिए इन दोनों का अपमान नहीं करना चाहिए।

‘नमामि गंगे’ अभियान के शुभारंभ के मौके पर केंद्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि गंगा हमारी आस्था, विश्वास और संस्कृति है। उन्होंने 231 परियोजनाओं का शुभारंभ होने के लिए उमा भारती का आभार जताया।

गड़करी ने कहा कि 1142 प्रकल्प और 7 एसटीपी का काम इस साल शुरू हो जाएगा। 50 बड़े प्रकल्प के लिए नई तकनीक को स्वीकारने का निर्णय लिया गया है। गंगा के दूषित पानी को रिसाइकल कर रेलवे स्टेशन धोने का काम किया जाएगा। गडकरी ने गंगा जल को शुद्ध कर बेचने की बात कही। गड़करी ने कहा कि जब विदेशों का जल यहां आकर बिक सकता है तो गंगा जल क्यों नहीं बिक सकता, उन्होंने कहा कि बस मार्केटिंग की ज़रूरत है।