धार्मिक नगरी हरिद्वार में गंगा के सर्वानंद घाट के सामने साईं घाट बनाए जाने का द्वारिका एवं ज्योर्तिपीठ के शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती ने विरोध किया है। उन्होंने कहा कि साईं घाट बनाने का हरिद्वार में कोई औचित्य नहीं है।

शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती का कहना है कि साईं का गंगा से कोई लेना देना नहीं है। साईं गंगा के भक्त कभी नहीं रहे। यह साबित हो चुका है कि साईं मुस्लिम थे।

हरिद्वार के बॉयलॉज के मुताबिक किसी मुस्लिम की मूर्ति या उनके नाम पर कोई स्थान नहीं बनाया जा सकता। उन्होंने कहा कि ऐसे में साईं के नाम से गंगा जैसी पवित्र नदी और हरिद्वार तीर्थनगरी में साईं घाट नहीं बनाने देना चाहिए।

उन्होंने हरिद्वार के साधु-संत पुरोहितों का भी आह्वान किया कि ऐसे घाट या जिस व्यक्ति का हरिद्वार से कोई नाता नहीं रहा तो उसकी मूर्ति भी नहीं लगाने देना चाहिए। गैर धार्मिक गतिविधियों का विरोध करना चाहिए।