अलीगढ़ की एक फर्जी यूनिवर्सिटी का भांडा-फोड़ , चूरन बेचता हुआ पाया गया वाईस चांसलर

उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में शिक्षा के नाम पर फर्जीवाड़े का एक अजीब मामला सामने आया है। अलीगढ़ के आर्य समाज मंदिर के बाहर एक दुकान नेताजी सुभाष चन्द्र बोस के नाम से एक फर्जी ओपन यूनिवर्सिटी चलाई जा रही है।

दिलचस्प बात यह है कि वेद्य की दुकान चलाने वाले श्याम सुंदर शर्मा नाम का शख्स इस यूनिवर्सिटी का कुलपति है जो चूरन की पुड़िया बनाता है। यूजीसी ने इनकी यूनिवर्सिटी को फेक यानी फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी करार दिया है।

दरअसल 30 जून को UGC की तरफ से 22 यूनिवर्सिटी को फर्जी करार दिया गया है। उस लिस्ट में यूपी की आठ यूनिवर्सिटी शामिल हैं। इन्हीं आठ में से एक सुभाष चंद्र बोस ओपन यूनिवर्सिटी हैं। इस यूनिवर्सिटी को बंद कर दिया गया है।

साल 1990 में इस यूनिवर्सिटी के खिलाफ अलीगढ़ के तत्कालीन डीएम अरुण कुमार बिट को सैकड़ों छात्र-छात्राओं को फर्जी डिग्री बांटने की शिकायत मिली थी। जिसके बाद थाना गांधी पार्क पुलिस ने इस फर्ज़ी यूनिवर्सिटी के फर्ज़ी कुलपति श्याम सुंदर शर्मा को गिरफतार कर लिया था। फिलहाल केस अदालत मे चल रहा है।

श्याम सुंदर शर्मा ने बताया, ‘’नेताजी सुभास चन्द्र बोस ओपन यूनिवर्सिटी, नेशनल एजुकेशन पॉलिसी 1985 एक्ट के तहत कार्य कर रही है।’’ उन्होंने बताया, ‘’वह लोगों को घर बैठे शिक्षा देने की फरियाद लेकर तत्कालीन राष्ट्रपति आर वेंकटरमन से भी मिले थे और राष्ट्रपति ने उनकी इस योजना का समर्थन भी किया था। लेकिन जब मैने यूनिवर्सिटी के लिए जमीन मांगी तो मुझे जमीन नहीं दी गई। 1990 में डीएम अरुण कुमार बिट ने मुझे पकड़वा दिया।’’