पिथौरागढ़-चमोली : 14 और शव निकाले गए, मृतकों की संख्या 39 तक पहुंची

पिथौरागढ़ और चमोली जिलों में बादल फटने की घटना के बाद मलबे में दबे 14 और शवों को बाहर निकाला गया है। पुलिस ने शनिवार को कहा कि पिथौरागढ़ और चमोली जिलों के छह गांवों में शुक्रवार को बादल फटने से 39 लोगों की मौत हो गई।

इन दर्दनाक घटनाओं से अधिकतम क्षति बासतेड़ गांव में हुई है। इस गांव में 30 लोगों के मलबे में दबे होने की आशंका है। क्षेत्र में लगातार बारिश के बाद बादल फटने से 60 से अधिक घर पूरी तरह से बर्बाद हो गए हैं। गांव में 200 मवेशियों की मौत हो गई है।

अधिकारियों का कहना है कि सिर्फ दो घंटे में 100 मिलीमीटर बारिश हुई है, जिससे अधिकांश नदियों में बाढ़ आ गई है। आपदा प्रबंधन दल के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि खराब मौसम की वजह से बचाव कार्य में भी दिक्कतें आ रही हैं।

राज्य आपदा बचाव बल (SDRF), अर्धसैनिक बल और सेना बचाव दल की कई टीम आपदा प्रभावित क्षेत्रों में फंसी हुई हैं। आपदा प्रभावित इलाकों में संचार के सभी साधन भी नष्ट हो गए हैं।