एडिनबर्ग।… आईसीसी ने पगबाधा (LBW) से जुड़े अंपायरों के फैसलों पर विवादास्पद निर्णय समीक्षा प्रणाली (डीआरएस) से संबंधित नियमों में बदलाव को मंजूरी दे दी है जिससे गेंदबाजों को मदद मिलने की संभावना है, लेकिन टेस्ट क्रिकेट में दो डिवीजन बनाने और नई वनडे लीग सहित अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में आमूलचूल परिवर्तन करने की योजना को स्थगित कर दिया है।

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद की शनिवार रात वार्षिक बैठक समाप्त हुई जिसमें आईसीसी, आईडीआई और आईबीसी बोर्डों ने पूर्व बीसीसीआई अध्यक्ष और अब आईसीसी चेयरमैन शशांक मनोहर की अध्यक्षता में कई मसलों पर चर्चा की। कुछ महत्वपूर्ण फैसले भी किए गए।

आईसीसी ने कहा कि विश्व संस्था के प्रशासन में पुनर्गठन के मामले में प्रगति हुई है जबकि डरबन में 2022 में होने वाले राष्ट्रमंडल खेलों में महिला क्रिकेट को शामिल करने के प्रयासों को आगे बढ़ाया गया है। क्रिकेट को ओलिंपिक खेल बनाने की अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट समिति की योजना पर आगे बातचीत हुई।

lbw1

पगबाधा पर अंपायर के फैसले से संबंधित डीआरएस की खेल परिस्थितियों के बारे में आईसीसी ने कहा कि यदि पगबाधा से संबंधित मैदानी अंपायर का फैसला बदला जाता है तो अब गेंद का आधा हिस्सा स्टंप के क्षेत्र में होना चाहिए जो कि ऑफ और लेग स्टंप के बाहर की सीमा भी होगी।

lbw

इससे पहले गेंद का आधा हिस्सा ऑफ और लेग स्टंप के बीच में होना जरूरी होता था। आईसीसी ने कहा कि यह संशोधन 1 अक्टूबर से या फिर इस तिथि से ठीक पहले शुरू होने वाली किसी सीरीज जिसमें डीआरएस हो, उससे प्रभावी होगा।