इंग्लैंड के प्रिंस चार्ल्स ने देहरादून के नवधान्य फार्म में किसान बनकर जिस लालू और धोरिया के साथ जौ का बीज बोया था वे लालू और धोरिया नामक दोनों बैल सोमवार रात चोरी हो गए। इनके अलावा बैलों की एक और जोड़ी नवधान्य फार्म से गायब हो गई हैं।

इंग्लैंड के राजकुमार चार्ल्स सात नवंबर 2013 को देहरादून के रामगढ़ गांव आए थे। यहां स्थित नवधान्य जैविक फार्म में उन्होंने लालू और धोरिया बैलों के साथ जौ की बुआई की।

करीब सवा घंटे चार्ल्स खेत में रहे और प्रसिद्ध पर्यावरणविद एवं नवधान्य की संस्थापक डॉ. वंदना शिवा से उन्होंने किसानों के बारे में जानकारी ली थी।

नवधान्य के कार्यकारी निदेशक डॉ. विनोद भट्ट ने बताया कि प्रिंस चार्ल्स ने जिस बैल की जोड़ी से सात नवंबर 2013 को नवधान्य फार्म पर हल चलाया था, बैलों की वह जोड़ी और एक अन्य जोड़ी सोमवार रात फार्म से चोरी हो गई है।

स्थानीय पुलिस में इसकी रिपोर्ट लिखवाई गई है। अंदाजा लगाया जा रहा है कि चोर उन्हें शीशम बाड़ा के जंगल से शिवालिक की पहाड़ियों से ले गए हैं।

देहरादून में साल 2013 में शिक्षा मंत्री मंत्री प्रसाद नैथानी के यमुना कॉलोनी स्थित आवास से चुलबुल पांडे (मंत्री की गाय का बछड़ा) चोरी हो गया था। उसे शौकरु के नाम से भी पुकारा जाता था। मंत्री की गाय के इस बछड़े की काफी खोज की गई, लेकिन उसका आज तक कुछ पता नहीं चल पाया है।