नैनीताल जिले के कॉर्बेट नगरी रामनगर में मंगलवार को क्षेत्र पंचायत की महत्वपूर्ण बैठक थी। इस बैठक में तमाम अधिकारी और लोग पहुंच चुके थे, लेकिन एडीबी के अधिकारी नहीं पहुंचे। बस फिर क्या था, नैनीताल के जिलाधिकारी दीपक रावत ने पुलिस के जरिए उन्हें बैठक में बुला भेजा।

डीएम दीपक रावत इस बात पर बेहद खफा थे कि जन समस्याओं के निस्तारण के लिए आहूत बीडीसी बैठक से एडीबी के जिम्मेदार अधिकारी गायब हैं। उन्होंने कहा कि यह वह मंच है, जिसमें जनप्रतिनिधियों द्वारा रखी गई समस्याओं का निराकरण संबंधित अधिकारियों को करना होता है। यदि अधिकारी ही गायब रहेंगे तो समस्या का निदान कैसे होगा?

उन्होंने कहा कि विभागीय अधिकारी अपने कार्यों की सूचना संबंधित प्रधान व क्षेत्र पंचायत सदस्यों को देना सुनिश्चित करें, ताकि कार्यों की मॉनटरिंग की जा सके। डीएम ने कहा कि विकास खंड क्षेत्र में हो रहे विकास कार्यों को अधिकारी व जनप्रतिनिधि आपसी सहयोग से सम्पादित करें। जनप्रतिनिधियों को चाहिए कि वह निर्माण कार्यों की गुणवत्ता पर पैनी नजर रखें। कही गुणवत्ता में कमी हो तो उसकी शिकायत सीधे डीएम से करें।

dm-deepak-rawat-ramnagar3

डीएम रावत ने लोनिवि के एग्जक्यूटिव इंजीनियर को निर्देश दिए कि क्षेत्र की क्षतिग्रस्त सड़कों की मरम्मत व पैच वर्क के लिए प्रस्ताव तैयार कर भेजें, ताकि आपदा मद से धन की व्यवस्था की जा सके। उन्होनें ढिकुली क्षेत्र में अवैध पेयजल संयोजनों को 24 घंटे के भीतर बंद करने के निर्देश दिए।

सड़े-गले क्षतिग्रस्त विद्युत पोलों की शिकायतों को गम्भीरता से लेते हुए जिलाधिकारी ने विद्युत महकमे के अधिकारियों से कहा कि तत्काल चुकुम तथा कंचनपुर और कानिया क्षेत्र के विद्युत पोलों को बदला जाए, ताकि बारिश में कोई अनहोनी न हो जाए। उन्होंने ढीले व झूलते हुए बिजली के तारों को भी एक सप्ताह के भीतर दुरुस्त करने के निर्देश भी दिए हैं।

डीएम दीपक रावत ने कालूसिद्ध से चन्दन सिह जलाल के घर तक बनी सड़कमार्ग तीन-चार सालों से पूर्ण रूप से क्षतिग्रस्त होने की शिकायत को गम्भीरता से लेते हुए उपजिलाधिकारी को रेता-बजरी स्टोकिस्ट के सहयोग से सड़क मरम्मत कराने के निर्देश दिए। जनप्रतिनिधियों ने जिलाधिकारी को बताया कि कोसी नदी से कंचनपुर, छोई, किशनपुर में लगभग 2.5 किमी भू-कटाव हो रहा है। इस पर डीएम ने बताया कि इस नदी पर भू-संरक्षण कार्य कराने के लिए शासन को 09 करोड का प्रस्ताव भेजा गया है। साथ ही ग्राम चुकुम में सिंचाई नहर एक माह से बन्द होने की शिकायत को भी डीएम ने गम्भीरता से लेते हुए 03 दिन के भीतर नहर खोले जाने के निर्देश सिंचाई अधिकारियों को दिए।

dm-deepak-rawat-ramnagar

उन्होंने कहा कि नहर की तत्काल सफाई कराकर पानी की सप्लाई किसानों को उनके खेतों तक किया जाना सुनिश्चित करें। डीएम ने धनपुर घासी में पेयजल लाइनों में लिकेज को तत्काल ठीक कराने के आदेश दिए साथ ही टेढा में पेयजल टैंक की सफाई कराने के भी आदेश दिए। ग्राम चूकुम में 03 हैंडपम्प खराब होने की शिकायत पर जनप्रतिनिधियों को आश्वस्त किया कि यहां एक नया हैंडपम्प लगवाया जाएगा।

डीएम ने बताया कि रामनगर ब्लॉक में 120 नए नलकूप लगाए जाने के प्रस्ताव तैयार किए गए हैं। इन नलकूपों की स्थापना के लिए 03 करोड 54 लाख की धनराशि का प्रस्ताव शासन को भेजा गया है। धनराशि स्वीकृत होते ही विकासखंड में नलकूपों की स्थापना का कार्य शुरू कर दिया जाएगा।

बैठक में ब्लॉक प्रमुख संजय नेगी ने अधिकारियों से कहा कि जो भी विकास कार्य उनके द्वारा विकासखंड में संचालित किए जा रहे हैं उनकी जानकारी जनप्रतिनिधियों को अवश्य दें। विकास कार्यों में समयबद्धता एवं गुणवत्ता के मानकों को अनुपालन किया जाए। गुणवत्ता युक्त विकास में अधिकारियों एवं जनप्रतिनिधियों की महत्वपूर्ण भूमिका है।

dm-deepak-rawat-ramnagar2

मुख्य विकास अधिकारी ललित मोहन रयाल ने जानकारी देते हुए बताया कि समाज कल्याण की सभी पेंशनों के अलावा मनरेगा व अन्य कार्यों की धनराशि का भुगतान सीबीएस खातों के माध्यम से आनलाईन कर दिया गया है, लिहाजा सभी प्रकार के खाताधारक अपने खातों को आधारकार्ड से लिंक करा लें, ताकि पेंशन व अन्य भुगतान उनके खातों में सीधे किया जा सके।

बैठक में उपाध्यक्ष महिला आयोग अमिता लोहनी, ज्येष्ठ प्रमुख आनन्द सिंह रावत, कनिष्ठ प्रमुख शशि देवी, सभापति मंडी समिति कृष्णा लटवाल, जिला पंचायत सदस्य नीमा बेलवाल, उप जिलाधिकारी पारितोष वर्मा, सहित सभी विभागीय अधिकारी व जनप्रतिनिधि मौजूद थे।