आज़ादी के 69 साल बाद आखिरकार उत्तराखंड के चमौली जिले के सिलपाटा गांव के लोगों को जिस पल का इंतजार था, आखिरकार वो खत्म हुआ। करीब सात दशक से इस गांव के लोग अपने गांव में बस के आने के इंतजार में थे।

प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत तहसील मुख्यालय आदि बदरी से गांव तक 21 किलोमीटर तक सड़क बनाकर इस गांव सड़क से जोड़ा गया है। गांव के अधिकतर लोगों के लिए यह किसी सपने से कम नहीं है।

गांव के एक वृद्ध कमल सिंह बिष्ट का कहना है कि पास के बाजार तक रोजमर्रा की चीजें खरीदने के लिए हमें कई किलोमीटर की चढ़ाई करनी होती थी। जब से देश आजाद हुआ है, हम अपने गांव में सड़क बनने का इंतजार कर रहे हैं। हमारी आने वाली पीढ़ियों को इतनी परेशानी नहीं उठाना पड़ेगा। गांव वालों ने बस के आने का स्वागत पारंपरिक तरीके से किया। महिलाओं ने इस दौरान पहाड़ी लोकनृत्य किया।