पीएम मोदी ने की ‘मन की बात’, ब्लैकमनी, योग, विज्ञान और किसान रहे मुख्य विषय

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज की ‘मन की बात’ कार्यक्रम के 21वे संस्करण में कहा कि लोगों ने अत्यधिक गर्मी का सामना किया है वहीं सूखे की स्थिति से भी लोगों को दो-चार होना पड़ा है। इस दौरान वैज्ञानिकों ने कहा है कि इस बार बारिश बेहतर होना है। अब मानसून आ रहा है।

किसानों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मानसून की शुभकामनाऐं दीं। उन्होंने कहा कि युवाओं से अपील है कि वे वैज्ञानिक बनने के लिए आगे आऐं। उन्होंने पुणे में सैटेलाईट बनाने वाले काॅलेज के स्टूडेंट से भेंट भी की। चेन्नई विश्वविद्यालय ने सत्यभामा सैटेलाईट तैयार करवाया। 22 जून को इसरो के मेगा मिशन हेतु उन्होंने शुभकामनाऐं देने की बात भी कही। इसरो ने अमेरिका सहित विभिन्न देशों में 17 सैटेलाईट अंतरिक्ष में भेजे जाने की पहल भी की।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विभिन्न परीक्षाओं में लड़कियों के अव्वल आने पर कहा कि परीक्षाओं में शानदार सफलता के लिए बेटियों और सभी को बधाई। उन्होंने एयरफोर्स की तीन महिला लड़ाकू विमान पायलट का जिक्र करते हुए कहा कि देश को तीन बेटियों के तौर पर पहली फाईटर पायलट्स मिलीं।

उन्होंने योग दिवस मनाए जाने की बात भी कही। उन्होंने योग को लेकर कहा कि योग के माध्यम से डायबिटीज़ को समाप्त करने के लिए एक अभियान की शुरूआत भी की गई है। उन्होंने वर्ष 1975 में आज के ही दिन आपातकाल लागू करने और विपक्षी नेताओं को जेलों में डाले जाने का उल्लेख किया। उन्होंने कहा कि आज के ही दिन यह हुआ था। उन्होंने कहा कि मन की बात कार्यक्रम का मजाक उड़ाया जाता है मगर तत्कालीन सरकार ने रेडियो और अखबारों पर रोक लगा दी थी।

लोकतंत्र में शक्ति का अहसास तो बार – बार होना चाहिए। सरकार के ग्रामीण मंत्रालय की साईट पर लोगों ने सर्वाधिक वोट दिया। उन्होंने टैक्स चोरी किए जाने को लेकर जागरूकता बढ़ने की बात कही है। उन्होंने अपील की कि जिनकी आय अघोषित है वे 30 सितंबर तक सरकार को आय की जानकारी दे दें। ऐसे में सरकार उनसे नहीं पूछेगी कि ये पैसा कहां से आया। 30 सितंबर तक अघोषित आय का खुलासा न करने पर संभावित दिक्कतों का सामना करने के लिए तैयार रहें।