बिहार बोर्ड के टॉपर्स घोटाले में पूर्व सचिव हरिहर नाथ झा गिरफ्तार

बिहार ‘टॉपर्स घोटाला’ मामले में पुलिस ने सोमवार को बिहार विद्यालय परीक्षा समिति के पूर्व सचिव हरिहर नाथ झा को गिरफ्तार कर लिया। पटना के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) मनु महाराज ने बताया कि इस मामले की जांच कर रहे विशेष जांच दल (एसआईटी) को जांच के दौरान कुछ अह्म साक्ष्य मिले, जिससे घोटाले में झा की संलिप्तता उजागर हुई। इसके बाद उन्हें गिरफ्तार किया गया है। पुलिस झा से पूर्व में भी पूछताछ कर चुकी थी।

मनु महाराज ने बताया कि झा की गिरफ्तारी के साथ इस मामले में गिरफ्तार लोगों की संख्या 20 पहुंच गई है, जिनमें बीएसईबी के पूर्व अध्यक्ष लालकेश्वर सिंह, उनकी पत्नी और बिहार में सत्ताधारी जनता दल (युनाइटेड) की पूर्व विधायक उषा सिन्हा, वैशाली के विशुन राय कॉलेज के प्राचार्य बच्चा राय भी शामिल हैं।

पुलिस सूत्रों के मुताबिक, एसआईटी को टॉपर घोटाला से संबंधित फाइलों में पूर्व सचिव के हस्ताक्षर मिले हैं, जिससे जांच दल इस निष्कर्ष पर पहुंचा है कि हरिहर नाथ झा भी फर्जीवाड़े में शामिल हैं।

बिहार में इस वर्ष 12वीं की परीक्षा में कला संकाय में टॉपर रही रूबी राय और विज्ञान संकाय में टॉपर रहे सौरव श्रेष्ठ का विषय और विशेष ज्ञान से संबंधित साक्षात्कार टीवी चैनलों पर प्रसारित किए गए थे। इसके बाद इस पूरे मामले का खुलासा हुआ था।

इसके बाद समिति ने विशेषज्ञों की एक टीम बनाकर 14 टॉपरों का साक्षात्कार लिया था। विशेषज्ञों द्वारा लिए गए साक्षात्कार में असफल होने पर विज्ञान संकाय के टॉपर सौरभ श्रेष्ठ और राहुल कुमार तथा कला संकाय की टॉपर रूबी राय का परीक्षा परिणाम रद्द कर दिया गया है।

इस मामले में पुलिस ने रूबी को पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है।